स्टार न्यूज़ एजेंसी
नई दिल्ली. केन्द्रीय संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ए. राजा ने आज 'भारत दूरसंचार 2009' का उदघाटन किया। इस अवसर पर राज्य मंत्री सचिन पायलट, दूरसंचार विभाग के सचिव और अन्य अधिकारी उपस्थित थे। दिल्ली के प्रगति मैदान में 5 दिसम्बर तक चलने वाले भारत दूरसंचार श्रृंखला के चौथे 'इंडिया टैलकम 2009' का केन्द्र बिन्दु समग्र विकास के लिए दूरसंचार पर है। इस विशाल कार्यक्रम का आयोजन भारत सरकार का दूरसंचार विभाग, भारतीय वाणिज्य और उद्योग संघ के साथ दूरसंचार उद्योग की सक्रिय सहायता से कर रहा है।

इस दो दिवसीय सम्मेलन में होने वाले पांच सत्रों में ग्रामीण दूरसंचार: दूरसंचार फासले को जोड़ना, दूरसंचार उपकरण निर्माण और निर्यात के लिए भारत एक स्थल, वीएएस मोबाईल बैंकिग और एम-वाणिज्य, नए क्षेत्रों का विस्तार, नियामक और नीति ढांचा और दूरसंचार के समग्र विकास जैसे विषयों को शामिल किया जाएगा।

अन्य कार्यक्रमों के अंतर्गत, माननीय प्रधानमंत्री डॉ.मनमोहन सिंह का सहभागियों को विशेष संबोधन, केन्द्रीय संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री के साथ मुख्य कार्यकारी अधिकारियों का गोल मेज सम्मेलन, 4 दिसम्बर को माननीय पूर्व राष्ट्रपति डॉ ए. पी. जे. अब्दुल कलाम का विषयपरक सम्मेलन में विशेष सत्र को संबोधन, स्वीडन, चीन, ताईवान, जर्मनी आदि देशों के विशेष पंडाल, नई अभिनव तकनीकों पर विमैक्स, टीईपीसी और टीसीओई के पंडाल, सेवा प्रदाताओं के लिए असीमित व्यापार अवसर, उपकरण आपूर्तिकर्ता, घटक निर्माता, हार्डवेयर और सॉपऊवेयर प्रदाता, और 5 दिसम्बर को गोल्फ प्रतियोगिता शामिल हैं।

इस आयोजन में 60 देशों की करीब 300 अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय कंपनिया भाग ले रही है। यह आयोजन खासतौर पर सार्क देशों के लिए काफी हितकर है क्योंकि एक कार्यक्रम के दौरान ही वे अंतर्राष्ट्रीय मानकों की बहुत सी दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनियों से मुलाकात का अवसर प्राप्त कर सकेंगे। भारत दूरसंचार श्रृंखला का शुभारंभ 2006 में दूरसंचार विभाग द्वारा विभिन्न पणधारकों के सहयोग से भारतीय दूरसंचार क्षेत्र को मजबूत बनाने और नेटवर्क अवसरों के लिए प्रभावी आधार प्रदान करने के लिए किया गया था।

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है... - एक सवाल अकसर पूछा जाता है, दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है...? अमूमन लोग इसका जवाब भी जानते हैं... कई बार हम जानते हैं, और समझते भी हैं, ...
  • दस बीबियों की कहानी - *बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम* कहते हैं, ये एक मौजज़ा है कि कोई कैसी ही तकलीफ़ में हो, तो नीयत करे कि मेरी मुश्किल ख़त्म होने पर दस बीबियों की कहानी सुनूंगी, त...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं