कश्मीर-वार्ता !
असफल होने को होती है, कोई नहीं स्वीकारता !!

वार्ता इस बार असफल नहीं !
नेता जो शामिल होने हैं, उन पर स्यासी अकल नहीं ??

कल्याण अलग दल बनाएंगे !
इस दल का भी भट्टा बैठा, तब वे बसपा में जाएंगे ??

अपराध-समीक्षा !
शुरू करें या अभी और, अपराध-वृद्धि की करें प्रतीक्षा ??

महंगाई पर चिंता !
ऐसी चिंताओं को शासन, चिंता करने में नहीं गिनता !!

एकजुटता !
एक साथ लुटने से बैटर, एक अदद कोई भी लुटता !!

धन-बल !
मूंगफली की तरह जेब में, जो खरीद कर रखे अकल !!

कालाबाज़ारी !
इतनी रक़म भेज दो थाने, बाकी सब हो गयी हमारी !!

तालिबान !
गोली की भाषा के ज्ञाता, रखते गोली भरी ज़ुबान !!

अफगानिस्तान !
अपनी धरती पर चुप रहकर, अमरीका की बातें मान !!

हामिद करजई !
ओबामा से तालिबान के, बारे में क्या बोले, क्यों भई ??
-अतुल मिश्र

एक नज़र

ई-अख़बार

Blog

  • सब मेरे चाहने वाले हैं, मेरा कोई नहीं - हमने पत्रकार, संपादक, मीडिया प्राध्यापक और संस्कृति कर्मी, मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक प्रो. संजय द्विवेदी की किताब 'उर्दू पत्रकारिता का भवि...
  • रमज़ान और शबे-क़द्र - रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है जिसे शबे क़द्र कहा जाता है. शबे क़द्र का अर्थ होता है " सर्वश्रेष्ट रात " ऊंचे स्...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Like On Facebook

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं