विजय अरोरा
अगर आपको प्रमोशन चाहिए या बॉस की नजरों में चढ़ना है तो इन नुस्खों को जरूर अपनाएं और गारंटी के साथ फायदा उठाएं।

1. हमेशा आपके हाथ में काम से संबंधित कागज होने चाहिएं-
वह कर्मचारी जिसके हाथ में सदैव काम के कागज या फाइलें होती हैं, तो वह बहुत ही मेहनती माना जाता है ( हालांकि वह मेहनती होता नहीं है)। इसलिए ऑफिस में खाम-ख्चाह घूमते हुए आपके हाथ में हमेशा कोई कागज होना चाहिए। यदि आपके हाथ में कुछ नहीं है तो लोग समझेंगे कि आप कैंटीन जा रहे हैं और यदि आपके हाथ में अखबार है तो ऐसा प्रतीत होता है कि आप टॉयलेट जा रहे हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि शाम को ऑफिस से जाते समय कुछ फाइलें घर जरूर ले जाएं, ताकि यह भ्रम बना रहे कि आप ऑफिस का काम घर पर भी करते हैं।

2. व्यस्त दिखने के लिए कंप्यूटर का उपयोग करें-
जब भी आप कंप्यूटर का उपयोग करते हैं तो लोगों को आप बहुत व्यस्त प्रतीत होते हैं। हालांकि मॉनिटर का मुंह ऐसी तरफ रखें, जहां से कोई यह न देख सके कि आप चैटिंग कर रहे हैं और गेम खेल रहे हैं। कंप्यूटर क्रांति के इस अनोखे सामाजिक उपयोग से आप बॉस की निगाह में चढ ज़ाएंगे। यदि भगवान करे आप पकड़े जाएं (और यह तो कभी न कभी होकर रहेगा ही) तो आप बहाना बना सकते हैं कि मैं इस सॉफ्टवेयर को देखकर इससे सीख रहा था, जिससे कंपनी का ट्रेनिंग का पैसा बच सके।

3. काम करने की टेबल हमेशा भरी हुई होनी चाहिए-
आपके काम करने की जगह हमेशा भरी हुई और अस्त-व्यस्त होनी चाहिए। टेबल पर ढेर सारे कागज और फाइलें इधर-उधर बिखरे होने चाहिए। कुछ सीडी, कुछ आधे-अधूरे प्रिंट आउट भी बिखरे हों तो सोने पे सुहागा। जब आपको मालूम हो कि किसी व्यक्ति को आपसे किसी फाइल का काम है, तो उस खास फाइल को एक बड़े ढेर में छपा दीजिए और उसके सामने ही ढूंढिए। हो सके तो कंप्यूटर से संबंधित मोटी-मोटी किताबें कहीं से इकट्ठा कर लें (पढ़ने के लिए नहीं) उससे आपकी इमेज विशिष्ट बनेगी। एक बात याद रखें कि पढ़ने वाले को प्रमोशन नहीं मिलता, झांकी जमाने वाले को मिलता है।

4. वाइस आंसरिंग का अधिकाधिक उपयोग करें-
संचार तकनीक के एक और वरदान आंसरिंग मशीन का अधिक से अधिक उपयोग करें। जब आपका बॉस या कोई सहकर्मी आपको फोन करे तो जरूरी नहीं कि वह काम आवश्यक ही हो। इसलिए भले ही आप फोन के लिए सिर पर बैठे हों, कभी सीधे जवाब न दें, बल्कि यह काम आंसरिंग मशीन को करने दें। फिर थोडी देर बाद सभी संदेशों को सुनें। उसमें से मुख्य और आवश्यक को छांटकर ठीक से लंच टाइम में सामने वाले को फोन करें, ताकि उसे लगे कि आप लंच टाइम में भी ऑफिस वर्क भूलते नहीं हैं।

5. हमेशा असंतुष्ट और तनावग्रस्त दिखें-
काम करते समय हमेशा असंतुष्ट और तनावग्रस्त दिखें। जब भी कोई सहकर्मी आपसे कुछ पूछे तो सबसे पहले एक गहरी सांस लें, ताकि उसे लगे कि आप काम के बोझ से बेहद दबे हुए हैं। साथ ही अपने जूनियर को हमेशा सीख देते रहें और उससे हमेशा असंतुष्ट रहें। जूनियर के चार कामों से तीन में जरूर मीन-मेख निकालें औए एक में -हां ठीक है, कहें।

6. ऑफिस से हमेशा सबसे देर से निकलें-
ऑफिस से हमेशा आपको देर से घर के लिए निकलना चाहिए। खासकर तब जब आपका बॉस ऑफिस में हो। आराम से मैगजीन और किताबें पढ़ते रहें, जब तक कि जाने का समय न हो जाए। ऑफिस टाइम के बाद कोशिश करें कि बॉस के कमरे के सामने से कम से कम दो-तीन बार गुजरें। यदि बॉस की गाड़ी खराब हो जाए और आप उसे उसके घर तक ड्रॉप कर सकें। इससे अधिक पुण्य आपके लिए और कुछ नहीं है। इसलिए हो सके तो साल में तीन बार कुछ ऐसा करें कि बॉस आपकी गाड़ी में लिफ्ट ले। जितनी महत्वपूर्ण ई-मेल हो, उसे हमेशा विषम समय पर ही भेजें, जैसे रात के साढ़ नौ बजे या सुबह सात बजे। बॉस की निगाह जरूर ई-मेल में पड़े समय पर पड़ेगी और वह बेहद इम्प्रेस हो जाएगा।

7. अपना भाषा ज्ञान और व्याकरण बढ़ाएं-
आपको अंग्रेजी के कुछ मुहावरे और लच्छेदार भाषा कंठस्थ करनी होगी। कंप्यूटर और मैनेजमेंट से संबंधित कुछ भारी-भरकम शब्द और वाक्य रचना यदि आप रट सकें तो बेहतर रहेगा और जब भी बॉस के साथ बात करें इन शब्दों का भरपूर उपयोग करें। इस अंदाज में कि बॉस को लगना चाहिए कि यदि यह बात नहीं मानी गई तो कंपनी में प्रलय आ जाएगा।

8. हमेशा दो कोट या जैकेट, जो भी पहनते हों रखें-
यदि आप किसी बड़े ऑफिस में काम करते हैं तो आपको हमेशा दो कोट रखने चाहिएं। एक पहनें और दूसरा आपकी कुर्सी पर टंगा होना चाहिए। इससे एक तो आप आराम से घूम-फिर सकते हैं और दूसरे लोग समझेंगे कि आप आस-पास ही कहीं हैं, या आते ही होंगे। अगर देर हो भी जाए तो आप कह सकते हैं कि जरूरी मीटिंग थी।

तो साहेबान, इन नुस्खों को आज से ही लागू कर दीजिए। फिर देखिए, आपका बॉस तो आपसे खुश रहेगा ही। आपके सहकर्मी भी आपके प्रमोशन को देख-देख जलेंगे। (स्टार न्यूंज एजेंसी)

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Blog

  • आलमे-अरवाह - मेरे महबूब ! हम आलमे-अरवाह के बिछड़े हैं दहर में नहीं तो रोज़े-मेहशर में मिलेंगे... *-फ़िरदौस ख़ान* शब्दार्थ : आलमे-अरवाह- जन्म से पहले जहां रूहें रहती हैं दहर...
  • अल्लाह और रोज़ेदार - एक बार मूसा अलैहिस्सलाम ने अल्लाह तआला से पूछा कि मैं जितना आपके क़रीब रहता हूं, आप से बात कर सकता हूं, उतना और भी कोई क़रीब है ? अल्लाह तआला ने फ़रमाया- ऐ म...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

Like On Facebook

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं