अमर सिंह खोल सकते हैं नए पत्ते !
इधर, मुलायम पर दो इक्के, उधर, अमर पर तीनों सत्ते !!

मुलायम ने साधा मायावती पर निशाना !
खम्भा क्यों नोंचा था उनका, इसका भी बतलाएं बहाना !!

अमर सिंह पर सवालों को टाल गए मुलायम !
हम अपने भइयों के संग हैं, वे संग ना रहने पर क़ायम !!

अमर सिंह ने कहा !
दोस्त, दोस्त ना रहा ??

अमर के समर्थक !
खुलकर तभी सामने आये, पानी पहुंच गया जब सर तक !!

आत्मरक्षा की दलील !
पतला-दुबला ही हो चाहे, साथ रखेंगे एक वक़ील !!

ठगी का मामला !
ठग को थाने में सुलवाकर, किसी और को थाम ला !!

विद्युत-विभाग !
ऊपर की इनकम करने में, लगा यहां हर एक दिमाग़ !!

मकान !
जन्म-मरण के मध्य सफ़र की, लोग मिटायें जहां थकान !!

तरक्की !
नोट अगर थाने तक पहुंचें, तभी समझ लें, होगी पक्की !!

विवाद !
अंग्रेजी में गाली देकर, भूल गया करना अनुवाद ??
-अतुल मिश्र

एक नज़र

ई-अख़बार

Blog

  • सब मेरे चाहने वाले हैं, मेरा कोई नहीं - हमने पत्रकार, संपादक, मीडिया प्राध्यापक और संस्कृति कर्मी, मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक प्रो. संजय द्विवेदी की किताब 'उर्दू पत्रकारिता का भवि...
  • रमज़ान और शबे-क़द्र - रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है जिसे शबे क़द्र कहा जाता है. शबे क़द्र का अर्थ होता है " सर्वश्रेष्ट रात " ऊंचे स्...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Like On Facebook

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं