सी.एम के जन्म-दिवस पर !
मातहतों को बिना डराए, गिफ़्ट लिए फ़ोटो में हंसकर !!


भारतीयों से नफ़रत !
बाहर जाकर करते क्यों हों, खुलेआम यह देशी कसरत ??

समस्या पर विचार !
पिछले साल इसी पर तो हम, करके अभी चुके हैं, यार !!

छुरा दिखाकर धमकाया !
रपट लिखाने थाने पहुंचा, वहां बेंत द्वारा हड़काया !!

चढ़ा पारा !
कुदरत ख़ार खाए बैठी है, नीचे ना आ जाए दुबारा !!

रिश्तेदारी !
दौलतमंद बने कोई तो, खोजे उससे दुनिया सारी !!

नौकरशाह !
नौकर होकर भी, नौकर रखते हैं, वाह !!

ज़हरखुरानी !
पुलिसजनों की यारी, इनसे बहुत पुरानी !!

शातिर !
केवल बदमाशी की ख़ातिर ??

उद्योग !
भीख और चंदे को सबसे, बड़ा मानते हैं कुछ लोग !!

सपा !
अमरसिंह के इस्तीफे के, बारे में कुछ नया छपा ??
-अतुल मिश्र

एक नज़र

ई-अख़बार

Blog

  • सब मेरे चाहने वाले हैं, मेरा कोई नहीं - हमने पत्रकार, संपादक, मीडिया प्राध्यापक और संस्कृति कर्मी, मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक प्रो. संजय द्विवेदी की किताब 'उर्दू पत्रकारिता का भवि...
  • रमज़ान और शबे-क़द्र - रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है जिसे शबे क़द्र कहा जाता है. शबे क़द्र का अर्थ होता है " सर्वश्रेष्ट रात " ऊंचे स्...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Like On Facebook

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं