सलीम अख्तर सिद्दीक़ी 
लालकृष्ण आडवाणी का यह कहना कि अयोध्या पर हाईकोर्ट के फैसले से उनकी रथ यात्रा सार्थक साबित हुई है, उन हजारों मुसलमानों और हिन्दुओं के जख्मों पर नमक छिड़का है, जो उनकी रथयात्रा के चलते प्रभावित हुए थे। आडवाणी का यह बयान उन मुसलानों को भी आहत करने वाला है, जो यह सोचते हैं कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को अंतिम मानकर अब अयोध्या विवाद का पटाक्षेप हो जाना चाहिए। ऐसा चाहने वाले मुसलमानों के दिल में यह बात आ सकती है कि नहीं, सुप्रीम कोर्ट तक लड़ा जाना चाहिए। पता नहीं कैसे आडवाणी अपनी रथयात्रा को सार्थक बता रहे हैं। सच तो यह है कि आडवाणी की वह रथयात्रा इस देश पर एक कलंक और एक तरह से 'खूनी यात्रा' थी। वह जहां से गुजरी अपने पीछे तबाही और बरबादी के निशान छोड़ गयी थी। लेकिन आडवाणी इतने कठोर दिल वाले साबित हुए थे कि उन पर मासूम बच्चों की चीत्कारों, औरतों की लुटती अस्मतों आग में जिन्दा जलते बेगुनाह लोगों की चीखों का कोई असर नहीं पड़ा था। उस समय शायद उनमें हिटलर की आत्मा समा गयी थी, जैसे हिटलर यहूदियों को गैस चैम्बरों में मरता देखकर अट्ठाहस करता होगा, ऐसे की आडवाणी देश को जलता देखकर अपने आप को हिटलर ही समझते होंगे। दुख इस बात का है कि आडवाणी यह सब उस भगवान के राम के नाम पर कर रहे थे, जो पूरी दुनिया में मानवता के लिए जाने जाते हैं। भगवान राम भी उनकी रथयात्रा के लिए उन्हें माफ नहीं कर सकते। आडवाणी की उस रथयात्रा ने देश की धर्मनिरपेक्ष छवि का तार-तार करने काम किया था। आडवाणी की रथयात्रा ने देश के हिन्दुओं में इतना उन्माद पैदा कर दिया था कि 6 दिसम्बर 1992 को एक उन्मादी और अराजक भीड़ ने एक ऐतिहासिक मस्जिद को जमींदोज कर दिया था। बाबरी मस्जिद का विध्वंस होना इस देश की एक अभूतपूर्व घटना थी। इस घटना के बाद देश में खूरेंज साम्प्रदायिक दंगों की बाढ़ आ गयी थी। हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच एक लकीर सी खिंच गयी थी। रही सही कसर आडवाणी के शिष्य नरेन्द्र मोदी ने 2002 में गुजरात में पूरी कर दी थी। हिन्दु मौहल्लों से मुसलमानों का तो मुस्लिम मौहल्लों से हिन्दुओं का तेजी से पलायन हुआ। आबादियों बंट गयीं। आबादियों का बंटने का सिलसिला आज भी जारी है। 
बाबरी मस्जिद विध्वंस, मुंबई और गुजरात के खूरेंज मुस्लिम विरोधी दंगे देश के दुश्मनों के लिए वरदान साबित हुए। मुंबई के भयानक साम्प्रदायिक दंगों के बाद मार्च 1993 में मुंबई में जबरदस्त बम धमाके हुए। इन बम धमाकों को बाबरी विध्वंस और मुंबई दंगों का बदला कहा गया। अपनी रथयात्रा को सार्थक बताने वाले आडवाणी भी यह जानते हैं कि यदि बाबरी मस्जिद का विध्वंस नहीं हुआ होता तो, न तो मुबई में साम्प्रदायिक दंगा होता और न ही मुंबई में बम धमाकों में सैकड़ों बेगुनाह लोगों की जान जाती। बात यहीं खत्म नहीं हुई। आतंकवादियों को, आतंकवादी घटना अंजाम देने के लिए बाबरी मस्जिद विध्वंस, मुंबई और गुजरात के दंगों का तर्क मुहैया हो गया। इस आड़ में 'भगवा आतंकवादी' भी बहती गंगा में हाथ धोने लगे।
आतंकवादी घटनाओं में मुसलमानों का हाथ बताकर मुस्लिम युवकों को एनकाउंटर में मार गिराने या उन्हें जेलों में ठूंसने का काम शुरु हुआ। बगैर उचित इंवेस्टीगेशन के सीधे-सीधे मुसलमान को आतंक का पर्याय बताया जाने लगा। यह तो अच्छा हुआ कि कुछ ईमानदार पुलिस अफसरों की वजह से 'भगवा आतंकवाद' का सच सामने आ गया, वरना 'भगवा आतंकवाद' मुसलमानों को आज तक बदनाम कर रहा होता। यह संयोग नहीं है कि 'भगवा आतंकवाद' का सच सामने आने के बाद देश में आतंकवादी घटनाएं बंद हो गयी हैं। अब 'भगवा ब्रिगेड' ने इस्लामिक आतंकवाद का राग अलापना बंद कर दिया है।
यदि आज भगवा ब्रिगेड अयोध्या फैसले पर संयम और शांति बरतने का ढोंग कर रहा है तो इसका सारा श्रेय इस देश के धर्मनिरपेक्ष हिन्दुओं को जाता है। धर्मनिरपेक्ष हिन्दु ही भगवा ब्रिगेड के सामने दीवार बनकर खड़ा हो गया। बाबरी मस्जिद विध्वंस और गुजरात दंगों के बाद भारत के मुसलमानों का आत्मविश्वास हिल कर रह गया था। सैक्यूलर मीडिया और सैक्यूलर हिन्दु जब मुसलमानों पर होने वाली ज्यादतियों के विरोध में खड़ा हुआ तो उनका आत्मविश्वास लौटा। हालांकि भगवा ब्रिगेड सैक्यूलर पत्रकारों को 'बिका हुआ' तो सैक्यूलर नेताओं को छद्म धर्मनिरपेक्ष कहता आया है। 
आडवाणी अपनी रथयात्रा को इसलिए भी सार्थक कह रहे होंगे कि उन्होंने बाबरी मस्जिद और राममंदिर मुद्दे को इतना संवेनशील बना दिया था कि अयोध्या पर फैसला लिखते समय जजों के भी हाथ कांप गए। जस्टिस यूएस खान ने लिखा है कि 'हमारे चारों तरफ बारुदी सुरंगें बिछी हुई है।' ये बारुदी सुरंगें लालकृष्ण आडवाणी की रथयात्रा ने ही बिछाई थीं। आडवाणी खुश हो सकते हैं कि उनकी रथयात्रा ने अयोध्या फैसले को प्रभावित कर दिया। वे अपनी रथयात्रा को सार्थक कह सकते हैं, लेकिन उन्हें इस बात पर भी विचार करना चाहिए उनकी रथयात्रा किस 'कीमत' पर सार्थक हुई है। यदि वे कीमत का अंदाजा लगा लेंगे तो उन्हें शर्म जरुर आएगी। लेकिन क्या आडवाणी जी को शर्म आएगी ?

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • तुमको जब भी क़रीब पाती हूं... - मुहब्बत का रिश्ता जिस्म से नहीं होता...बल्कि यह तो वो जज़्बा है जो रूह की गहराइयों में उतर जाता है...इसलिए जिस्म का होना या न होना लाज़िमी नहीं है...बहुत...
  • अक़ीदत के फूल... - अपने आक़ा हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को समर्पित कलाम... *अक़ीदत के फूल...* मेरे प्यारे आक़ा मेरे ख़ुदा के महबूब ! सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम आपको लाखों स...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं