दिलीप घोष
चन्द्रमा पर पानी की खोज का श्रेय हाल तक भारत के अंतरिक्ष यान-चन्द्रयान पर ले जाए गए नासा के एक ऐसे खनिज विज्ञानी यंत्र को दिया जाता है, जिसे मून मिनरलॉजी मैपर यानी एम-3 कहा जाता है यह दावा किया गया था कि 14 नवम्बर, 2008 को इस यंत्र ने चन्द्रमा के ध्रुवीय क्षेत्र में पानी की खोज उस समय की थी, जब अंतरिक्ष यान पृथ्वी के प्राकृतिक उपग्रह का 100 किलोमीटर की गोलाकार परिधि में चक्कर लगा रहा था एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में इस गलती को अमेरिका की खगोलशास्त्रीय संस्थाअमेरिकन ऐस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी ने 12 फरवरी, 2011 को दुरूस् कर दिया है सोसायटी के अनुसार नासा के हब्बल स्पेस टेलिस्कोप (हब्बल अंतरिक्ष दूरबीन एचएसटी) ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि चन्द्रमा पर पानी की खोज चन्द्रयान पर ले जाए गए भारत निर्मित यंत्र मून इम्पैक् प्रोब (एमआईपी) ने की थी बॉक् के आकार के 34 किलोभार के एमआईपी में चन्द्रा ऐल्टिट्यूडनल कम्पोजीशन एक्सप्लोरर को ले जाया गया था जिसमें तीन उपकरण वीडियो इमेजिंग उपकरण, रडार आल्टीमीटर और एक मास स्पेक्ट्रोमीटर लगे हुए थे वीडियो इमेजिंग उपकरण को एमआईपी के चन्द्रमा के निकट पहुंचते ही उसकी सतह का चित्र लेने के लिये ले जाया गया था जबकि रडार आल्टीमीटर का उपयोग चन्द्रमा की सतह पर प्रोब के उतरने की दर को मापने के लिये किया जाना था मास स्पेक्ट्रोमीटर चन्द्रमा के अत्यधिक झीने वातावरण के अध्ययन के लिये रखा गया था चक्कर लगाते हुए अंतरिक्षयान से अलग किये जाने के बाद एमआईपी को चन्द्रमा की सतह पर पहुंचने में 25 मिनट लगे चन्द्रमा की सतह पर पक्के से उतरने से पूर्व की उस अवधि में एमआईपी ने सभी सूचनायें चन्द्रयान को रेडियो तरंगों के माध्यम से भेज दी थी , जिसे उसने अपनी ऑन बोर्ड मेमोरी में तत्काल रिकार्ड कर लिया था ताकि इन सूचनाओं को बाद में आवश्यकतानुसार पढ़ा जा सके एमआईपी द्वारा चन्द्रयान को संदेश भेजे जाने के साथ ही, चन्द्रमा के अध्ययन का भारत का प्रथम प्रयास सफलतापूर्वक पूरा हो गया था
            नासा ने जैसे ही एमआईपी द्वारा चन्द्रमा पर पानी की खोज की पुष्टि की, इसरो के साराभाई अंतरिक्ष केन्द्र, जहां चांस का निर्माण हुआ था, खुशी की लहर दौड़ गई। चांस परियोजना के प्रबंधक श्री सैयद मकबूल अहमद ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक् करते हुए कहा कि यह पहली बार है कि पश्चिम के वैज्ञानिकों ने चन्द्रमा पर पानी की खोज संबंधित भारत के प्रकाशित शोधकार्य को मान्यता प्रदान की है। चांस परियोजना में काम करने वाले वैज्ञानिक तीर्थ प्रतिमदास ने विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केन्द्र की आंतरिक पत्रिका वॉएज में लिखा था, एमआईपी में लगे उपकरणों से 14 नवम्बर, 2008 को दिन के वातावरण में चन्द्रमा की सतह पर कुछ परीक्षण  किया गया जो सफल रहा उनके अनुसार आंकड़ों के विश्लेषण से पता चला कि चन्द्रमा पर पानी की मात्रा अच्छी खासी है परन्तु चन्द्रमा पर पानी की खोज का श्रेय केवल एमआईपी को नहीं जाता नासा के दो और परीक्षणों में भी पानी का पता चला है 1999 में प्रक्षेपित कैसिनी अंतरिक्ष यान पर भेजे गए विजुअल एंड इन्फ्रारेड मैपिंग स्पेक्अ्रोमीटर ने भी चन्द्रमा की सतह पर पानी के अणुओं की खोज की थी पिछले वर्ष चन्द्रमा के पास से गुजर रहे इपॉक्सी अंतरिक्ष यान पर लगे हाई रिजोल्यूशन इन्फ्रारेड इमेजिंग स्पेक्ट्रोमीटर ने भी पानी का पता लगाया था, साथ ही चन्द्रमा के ध्रुवीय क्षेत्र में हाइड्रॉक्सेल अणु भी पाए गए थे इन खोजों के निष्कर्ष अभी हाल तक अप्रकाशित ही रहे थे
            चन्द्रमा की सतह पर पानी का पाया जाना और वह भी पूर्व के अनुमान से अधिक मात्रा में निश्चित ही एक बड़ी बात है परन्तु चन्द्रमा पर सही सही कितना पानी है ? उन पर स्थित अमेरिका के भूगर्भीय सर्वेक्षण के डा0 रॉजर क्लार्क ने इसका अनुमान लगाया है उन्होंने बताया कि यदि चन्द्रमा के सतह की मिट्टी की ऊपरी परत का एक टन हिस्सा खोदा जाए तो केवल 32 औंस पानी मिलेगा मून मिनरलॉजी मैपर एम-3 परियोजना के प्रधान जांचकर्ता डा0 कार्ल पीटर्स ने सामान् शब्दों में कहा कि जब हम चन्द्रमा पर पानी की बात करते हैं तो झीलों, समुद्रों और तालाबों की बात नहीं करते चन्द्रमा पर पानी का अर्थ होता है पानी और हाइड्रोआक्सिल  के अणु जो चन्द्रमा की सतह पर चट्टानों और धूल को प्रभावित करते हैं परन्तु नासा के एक अन् वैज्ञानिक पॉल स्पूडिस का कहना है कि चंद्रयान के राडार से प्राप् आंकड़ों से पता चलता है कि चन्द्रमा के उत्तरी ध्रुव के पास छायादार गड्ढे में जमी हुई बर्फ में पर्याप् पानी है, जो कि कम से कम 60 करोड़ मीट्रिक टन तक हो सकता है उन्होंने कहा कि चन्द्रयान के मून मिनरलॉजी मैपर उपकरण ने चन्द्रमा पर एक पतली परन्तु व्यापक पानी की चादर जैसी परत की उपस्थिति का पता लगाया है, जोकि हाइड्रॉक्सिल के रूप में है
            यहां पर स्मरण योग् है कि चन्द्रयान का सकल प्रक्षेपण 22 अक्तूबर, 2008 को इसरो के पीएसएलवी-सी-11 राकेट से किया गया था   श्री हरिकोटा के सतीशधवन अंतरिक्ष केन्द्र से पृथ्वी की अंडाकार कक्षा से यह अंतरिक्षयान 8 नवम्बर, 2008 को अपने लक्ष् अर्थात चन्द्रमा की कक्षा में प्रविष् हो गया था तब इसकी चक्रीय ऊँचाई को धीरे-धीरे कम कर चन्द्रमा की सतह के पास 100 कि.मी. की लक्षित दूरी पर ले आया गया प्रक्षेपण के बाद से ही चन्द्रयान की स्थिति  पर बंगलूरू स्थित इसरो अंतरिक्षयान नियंत्रण केन्द्र आईएसटीआरएसी से नज़र रखी जा रही थी अंतरिक्ष यान का जीवन 2 वर्ष का था, परन्तु प्रक्षेपण के दिन से करीब 8 महीने के अंदर ही , 29 अगस् , 2009 को इसका रेडियो संपर्क टूट गया इसरो के लिये यह एक विफलता मानी जा सकती है, परन्तु यह कोई बहुत बड़ी हानि थी, ऐसा नहीं माना जाना चाहिए वास्तव में, अंतरिक्ष के अनुसंधान में लगी अन् एजेंसियों की तुलना में, इसरो का रिकार्ड काफी बेहतर है। यहाँ यह उल्लेख करना उचित होगा कि चन्द्रयान ने अपने आठ माह के जीवन में ही अपना 95 प्रतिशत लक्ष् प्राप् कर लिया था इसने करीब 3400 चक्कर लगाए, जिसके दौरान उसने चन्द्रमा के 70 हजार चित्र भेजे
            चन्द्रयान ने जो कार्य किये, उनमें चंद्रमा की सतह पर अनेकों सुरंगों की खेाज भी शामिल है एक विज्ञान लेखक का तर्क है कि यह सुरंगें उस समय काम में आएंगी , जब मनुष् इस ईश्वरीय निकाय पर अपना घर बनाएगा ये उसे चन्द्रमा की सतह से निकलने वाली ब्रह्मांड की अन् हानिकारक किरणों से शरण प्रदान कर सकेंगी इसके अतिरिक् चन्द्रयान द्वारा संकलित आंकड़े उस समय काम में आएंगे जब इसरो चंद्रयान का दूसरा मिशन छोड़ेगा इसरो के पूर्व अध्यक्ष डा0 जी माधवन नायर का कहना है कि चन्द्रयान द्वितीय 2013 में छोड़ा जाएगा जिसमें एक मोटर युक् रॉवर और चन्द्रमा की कक्षा में घूमने वाला यान लगा होगा करीब 30 किलेाग्राम भार वाला मोटरयुक् रॉवर सौर ऊर्जा से शक्ति प्राप् करेगा और उसका जीवन 30 दिनों का होगा रॉवर का काम होगा रासायनिक परीक्षण हेतु चट्टानों और मिट्टी के नमूने इकट्ठा करना और चंद्रयान द्वितीय को सूचनायें भेजना जिन्हें विश्लेषण के लिए पृथ्वी  के नियंत्रण केन्द्र को भेजा जाएगा परन्तु भारतीय अंतरिक्ष वैज्ञानिकों की सबसे बड़ी उपलब्धि यही रही कि वे 3 लाख 40 हजार किलोमीटर दूर चंद्रमा पर अंतरिक्ष यान भेजने में कामयाब रहे यह सफलता भविष् में अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष अभियानों के लिये उन्हें पर्याप् शक्ति प्रदान करेगी

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है... - एक सवाल अकसर पूछा जाता है, दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है...? अमूमन लोग इसका जवाब भी जानते हैं... कई बार हम जानते हैं, और समझते भी हैं, ...
  • दस बीबियों की कहानी - *बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम* कहते हैं, ये एक मौजज़ा है कि कोई कैसी ही तकलीफ़ में हो, तो नीयत करे कि मेरी मुश्किल ख़त्म होने पर दस बीबियों की कहानी सुनूंगी, त...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं