स्टार न्यूज़ एजेंसी 
कांग्रेस के महासचिव राहुल गांधी ने आज उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद के फूलपुर संसदीय क्षेत्र के झूंसी क़स्बे में बड़ी जनसभा कर मिशन उत्तर प्रदेश 2012 का आग़ाज़ किया. जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस के युवराज ने कहा कि- 'फूलपुर जवाहर लाल नेहरू की कर्मभूमि रही है. यहां से उन्होंने प्रदेश को प्रगति का रास्ता दिखाया था. एक समय उत्तर प्रदेश पूरे देश को रास्ता दिखा रहा था. अब सारा देश आगे है, यूपी पीछे है. यहां से कभी नेहरू जी सांसद हुआ करते थे. लेकिन अब यहां से माफिया और अपराधी एमपी हैंउत्तर प्रदेश में बहुत कुछ बदल गया है, लेकिन विकास नहीं हुआ है. नेता जब तक गरीब के घर खाना नहीं खाएगा, तब तक वह नेता गरीबी की समस्या नहीं समझ पाएगा. जब तक एक नेता गरीबों के घर में कुएं का गंदा पानी नहीं पीएगा और जब तक वह बीमार नहीं होगातब तक उस नेता को उस गरीब का दर्द नहीं पता चलेगा. जब तक नेता गरीब की हालत नहीं समझता तब तक उसे गुस्सा नहीं आ सकता. गुस्सा किस बात का? गुस्सा इस बात का गरीब के साथ इस प्रदेश में अत्याचार हो रहा है. एक समय था जब मायावती और मुलायम में यह गुस्सा था, लेकिन आज वह मर गया है. ये लोग अब सत्ता की खोज कर रहे हैं. सत्ता की खोज से यूपी का भला नहीं होगा. इससे यहां के गरीबों की हालत बेहतर नहीं होगी. वह तभी बेहतर होगा, जब अच्छी सरकार होगी. देश आगे जा रहा है, यूपी पीछे जा रहा है. अपराधी यूपी से सांसद बन रहे हैं. मजदूरों से काम नहीं लिया जा रहा है. मशीनों से काम लिया जा रहा है. इससे बीएसपी के कार्यकर्ताओं को और ठेकेदारों को असली फायदा हुआ है.

बुंदेलखंड में सूखा पड़ा है. वहां लोगों को बडी़ मुश्किल हो रही है. आपकी सीएम वहां नहीं गईं. वहां के लोगों का दुख नहीं देखा. मैंने प्रधानमंत्री से बात की. प्रधानमंत्री ने पैकेज मंजूर किया, लेकिन पैकेज का पैसा कहीं नहीं दिखाई दिया. वहां गया तो एक किसान का कुआं देखा. मैंने पाया कि आधा कुआं ही बना है. उस किसान ने कहा कि मेरे सपने इसके अंदर हैं. इससे नुकसान अफसरों का नहीं, नुकसान बीएसपी के कार्यकर्ताओं का नहीं होता. नुकसान गरीब और पिछड़ों का होता है. लोग मुझसे कहते हैं कि मेरे पास कोई काम नहीं है. वे कहते हैं कि मैं कहां जाऊंगा? वे मुझसे सवाल पूछते हैं.

मैं भट्टा परसौल गया. पुलिस ने वहां महिलाओं को गोली मारी. अत्याचार किए. ऐसा क्यों किया गया? क्योंकि वहां के किसानों की ज़मीन छीनी जा रही है. किसको दी जा रही है? अमीरों को. किसान मर रहे थे, उन पर गोली चलाई जा रही थी. आपकी सरकार कुछ नहीं कर रही थी. कोई भट्टा परसौल नहीं गया. अगर किसान अपनी ज़मीन के लिए संघर्ष करता है, अपना हक मांगता है तो यूपी की सरकार कहती है कि ये लोग नक्सली हैं, इन्हें गोली मारो. मैं अलीगढ़ में बुनकरों के यहां गया. वहां बुनकरों ने कहा कि उनका काम धंधा बंद हो रहा है. वहां लोगों ने बताया कि पहले यहां लोग आते थे, काम होता था, लेकिन अब सब बंद हो गया. उन्होंने बताया कि हम लोग मजदूरी करते हैं. हमने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री से बात की. प्रधानमंत्री ने राहत पैकेज का ऐलान किया, लेकिन बुनकर हमारे पास आए. उन्होंने कहा कि ये जो बुनकर समितियां हैं, उनमें हमारे लोग नहीं हैं. हमने सुनिश्चित किया कि ये पैसे बुनकरों की जेब में जाएं.

आज यूपी की हालत यह है कि एफआईआर दर्ज करानी है तो पैसा दो. यहां बनने से पहले पुल गिर जाता है. मैं एक पुल देखने गया था. अगले दिन पुल गिर गया. मंत्री की जेब में सीमेंट जाता है, अगले दिन पुल गिर जाता है. जननी सुरक्षा योजना में महिला को 1400 रुपये दिए जाते हैं. हमने आरटीआई के तहत जानकारी मांगी. इस योजना की स्थिति यह है कि यूपी में ऐसी कई महिलाएं हैं जो हर हफ्ते बच्चों को जन्म दे रही हैं. वे साल भर में 52 बच्चों को जन्म दे रही हैं.

इससे पहले समाजवादी पार्टी की सरकार में गुंडे थाने चलाते थे. हमारे लोग जब थाने जाते थे तो उलटे उन पर ही मुकदमा कायम हो जाता था, लेकिन हम बीते कल की बात नहीं करेंगे. हम भविष्य की बात करना चाहते हैं. आने वाले सत्र में खाद्य सुरक्षा कानून पास होगा. हर हिंदुस्तानी के लिए हम भोजन सुनिश्चित करना चाहते हैं. यूपी में आपका भोजन कौन खाएगा? आप खाएंगे? बीएसपी का कार्यकर्ता खाएगा? या अपराधी? यह आपको तय करना है.

अब मैं भ्रष्टाचार की बात करता हूं. मैं चाहता हूं कि ऐसा लोकपाल हो जो भ्रष्टाचार दूर करे, सख्त कार्रवाई करे. हम जल्द ही कानून पास करेंगे. दलितों के लिए सरकार ने 7 हजार करोड़ रुपये का पैकेज दिया है. हम चाहते हैं कि उद्योग धंधों में दलितों को काम मिले. हम सच्चर कमीशन की रिपोर्ट लागू कर रहे हैंउत्तर प्रदेश को कोई नहीं बचा सकता. जब तक उत्तर प्रदेश की जनता जागेगी नहीं. जब तक जनता बदलाव नहीं लाएगी. तब तक एक जाति की सरकार, चुने हुए लोगों की सरकार ही बनती रहेगी. आम आदमी की, पिछड़ों की सरकार, यूपी की सरकार नहीं बनेगी. जिस दिन विकास, प्रगति की सरकार बनेगी, यूपी को कोई पीछे नहीं कर पाएगा.

आप जहां भी जाते हो, आप दिखा देते हो कि काम कैसे किया जाता है. दिल्ली में सड़कें या मेट्रो बनती है, आप बनाते हो. यूपी के लोग महाराष्ट्र की मदद कर रहे हैं. पंजाब के लोग कहते हैं कि हम लोग यूपी के लोगों जितना काम नहीं कर सकते. मुझे यह देखकर दुख होता है. मुझे गुस्सा आता है. गुस्सा क्यों आता है? इस देश की शक्ति गरीब जनता में है, लेकिन आपकी सरकार गरीब को भूल गई है. बिजली जितनी 20 साल पहले बनती थी, उतनी ही आज बनती है.

आज उत्तर प्रदेश में भ्रष्टाचार है, मंत्री जेल में हैं, लेकिन विकास नहीं है. जब तक यहां का युवा खड़ा नहीं होगा, तब तक बदलाव नहीं होगा. मैं दिल्ली से आता हूं। आपका खाना खाता हूं. आपकी बात सुनता हूं. गुस्सा आता है. सोचता हूं क्यों नहीं लखनऊ जाऊं? क्यों नहीं आपकी लड़ाई लड़ूं? यहां जब तक सोच नहीं बदलेगी, तब तक कुछ नहीं बदलेगा. पांच साल लगेंगे. सारे प्रदेशों को पीछे छोड़ देंगे. लिख के ले लो. आप कब जागोगे? कब तक महाराष्ट्र में जाकर भीख मांगोगे? कब तक पंजाब में मजदूरी करोगे? मैं आपसे जवाब चाहता हूं. आप बदलाव लाओ. हम एक साथ इस प्रदेश को बदलेंगे.'   

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • किसी का चले जाना - ज़िन्दगी में कितने लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें हम जानते हैं, लेकिन उनसे कोई राब्ता नहीं रहता... अचानक एक अरसे बाद पता चलता है कि अब वह शख़्स इस दुनिया में नही...
  • मेरी पहचान अली हो - हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फ़रमाते हैं- ऐ अली (अस) तुमसे मोमिन ही मुहब्बत करेगा और सिर्फ़ मुनाफ़ि़क़ ही तुमसे दुश्मनी करेगा तकबीर अली हो मेरी अज़ान अल...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं