स्टार न्यूज़ एजेंसी 
पीलीभीत (उत्तर प्रदेश). कांग्रेस के महासचित राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश में रही गैर कांग्रेसी सरकारों पर प्रदेश को बदहाल करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इन दलों ने जाति और धर्म के नाम पर वोट बटोरकर अपना भला किया और प्रदेश को पिछड़ेपन की तरफ़ धकेल दिया. 

यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा कि पहले भारतीय जनता पार्टी के लोग आपके पास आए और बोले कि राम के नाम पर वोट दो. उन्होंने आपको धर्म के नाम पर धोखा दिया. फिर समाजवादी पार्टी के लोग आए और बोले कि विकास लाएंगे, लेकिन सपा सरकार में गुंडे पुलिस थाने चलाने लगे. फिर बहुजन समाज पार्टी ने आपसे वोट मांगे और आपने उन्हें जिताया. मगर बसपा सरकार में जनता के पैसे की जमकर लूट हुई. आज आप देख रहे हैं कि सरकार का आधा मंत्रिमंडल जेल में है. मायावती पर प्रहार करते हुए राहुल ने कहा, "मुख्यमंत्री ने पहले चार मंत्रियों को बर्ख़ास्त किया, फिर कल दो और मंत्रियों को बर्खास्त किया, जबकि चार साल से ये मंत्री जनता का पैसा लूट रहे थे. मगर उन्हें तब न हटाकर अब चुनाव के एक महीने पहले क्यों हटाया गया. दिलचस्प बात यह है कि आपकी मुख्यमंत्री ने कुछ ख़ास विभाग उन वरिष्ठ मंत्रियों को दिए जो सबसे ज़्यादा भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे हैं."

उत्तर प्रदेश में अपने तीसरे जनसम्पर्क अभियान के चौथे दिन राहुल गांधी ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा विधेयक का विरोध करने के लिए मायावती पर निशाना साधते हुए कहा, "आपकी मुख्यमंत्री ख़ुद को दलितों का मसीहा कहती हैं, लेकिन केंद्र सरकार की इस योजना से सबसे ज़्यादा फ़ायदा दलितों को होगा. उन्हें इस बात का पता नहीं है, क्योंकि वह आप लोगों के बीच नहीं जाती हैं. उन्हें पता ही नहीं है कि ग़रीब कैसे जीता है."

वरुण गांधी के संसदीय क्षेत्र में भाजपा नेताओं पर ज़मीनी हक़ीक़त से वाकिफ़ न होने का ज़िक्र करते हुए राहुल ने कहा, "2004 के लोकसभा चुनाव के दौरान हमारे विरोधी दल ने कहा कि भारत चमक रहा है. एयरकंडीशन कमरों में बैठने और लम्बी गाड़ियों में घूमने वाले इन नेताओं को टीवी पर एक इश्तहार अच्छा लगा और वहीं से 'इंडिया शाइनिंग' का नारा दे दिया."

उन्होंने विकास के लिए प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाने की अपील करते हुए कहा, "आपने विरोधी दलों को 22 साल दिए, हमें पांच साल दीजिए हम आपको बदलाव लाकर दिखाएंगे."
राहुल गांधी यहां एक स्थानीय नेता की मां के जनाज़े में भी शामिल हुए. इससे पहले सुबह को सैर के दौरान उन्होंने बच्चों से बातें की और बच्चों ने उनसे पूछा कि आप प्रधानमन्त्री कब बनोगे. बच्चों के इस सवाल पर वह मुस्करा दिए. राहुल को उनकी इस चुनावी मुहीम के दौरान भारी जनसमर्थन मिल रहा है.  

एक नज़र

ई-अख़बार

Blog

  • सब मेरे चाहने वाले हैं, मेरा कोई नहीं - हमने पत्रकार, संपादक, मीडिया प्राध्यापक और संस्कृति कर्मी, मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक प्रो. संजय द्विवेदी की किताब 'उर्दू पत्रकारिता का भवि...
  • रमज़ान और शबे-क़द्र - रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है जिसे शबे क़द्र कहा जाता है. शबे क़द्र का अर्थ होता है " सर्वश्रेष्ट रात " ऊंचे स्...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Like On Facebook

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं