स्टार न्यूज़ एजेंसी
मौरावां (उत्तर प्रदेश).
कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने आज महिलाओं और युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि वादों पर मत जाइए, काम को देखिये. हम वादे नहीं करते, काम करते हैं. आपके सामने उत्तर प्रदेश का चुनाव है पिछले 22 साल से नेता यहां आते रहे, वादे करते रहे कि इसको बदल देंगे, उसको बदल देंगे, जबकि कांग्रेस पार्टी ने जो भी किया वह हर हिन्दुस्तानी के लिए किया, किसी विशेष जाति या धर्म के लिए नहीं.
रामलीला मैदान में विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने वहां बड़ी संख्या में मौजूद महिलाओं से सीधे सवाल पूछा कि पिछले 22 सालों में आपकी किसने सोची? कभी कोई आपके पास आया? हम आए आपके पास. आपने बताया कि हम दिन भर मेहनत करते हैं और रात को हमारे बच्चे आधी रोटी खाकर भूखे सोते हैं. हमने संसद में भोजन का अधिकार देने का क़ानून रख दिया.
राहुल गांधी ने कहा कि पहले भी हम दिल्ली से भोजन भेजते थे, पर मुलायम सिंह जी यहां आपका भोजन चोरी कराते थे. अनाज का सबसे बड़ा घोटाला उन्होंने  कराया. 2004 में आपने हमें जिताया, क्योंकि हमने काम किया. आपमें ज्ञान है, आपमें शक्ति है. आप प्रदेश चलाती हैं. मैं आपसे झूठे वादे करने नहीं काम करने आया हूं. झूठे वादे अगर सुनने हों तो मुलायम सिंह जी, मायावती जी के पास चले जाइए.
कांग्रेस महासचिव ने कहा कि मुलायम सिंह जी अब कह रहे हैं कि बिजली मुफ्त दे देंगे. अमेठी के लोगों ने मुझे दिखाया कि मुफ्त में दस-पंद्रह हज़ार का बिल आता था, बिजली नहीं आती थी. कहां से देंगे मुफ्त में बिजली?
राहुल गांधी ने हाथ में काग़ज़ लहराते हुए कहा कि मैं बताता हूं कहां से देंगे, उनके पास जादू की छड़ी है. मुख्यमंत्री बनने के बाद वो जादू की छड़ी आसमान में उठाएंगे और आसमान खुल जाएगा. आसमान से एक तार हर व्यक्ति के घर में आएगा, उसमें से बिजली आएगी. मुलायम सिंह जी सोचते हैं कि जो भी कहना हो कह दो अभी. पूरे मैदान में हंसी का ठहाका गूंज गया.
उन्होंने कहा कि हमने बुनकर पैकेज, मनरेगा, 5000 करोड़ का बुंदेलखंड पैकेज दिया. यह बात अलग है कि पैसा आप तक नहीं पहुंचा, हाथी खा गया. 60 हज़ार  करोड़ रुपये किसान क़र्ज़ माफ़ी दी, अल्पसंख्यकों को आरक्षण दिया. अब भोजन का अधिकार देने जा रहे हैं, जिसमें 35 किलो अनाज हर परिवार को मिलेगा.
समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह के कोरे वादों पर प्रहार करते हुए राहुल गांधी गरजे कि बुंदेलखंड में सूखा पड़ा था, किसान रो रहे थे, पलायन हो रहा था तब मुलायम सिंह जी वहां नहीं गए. अब चुनाव आया तो मुलायम सिंह जी कह रहे हैं कि बुंदेलखंड को इजरायल में बदल देंगे. अरे भाई बुंदेलखंड का युवा इजरायल नहीं खाद, पानी, बिजली और बुंदेलखंड मांग रहा है.
राहुल गांधी ने कहा कि 2004 में सरकार बनने के बाद हमने माताओं-बहनों से पूछा कि बताइये क्या किया जा सकता है. महिलाओं ने बताया कि हम भटकते रहते हैं, हमें रोज़गार नहीं मिलता. इस तरह मनरेगा पैदा हुआ, हमने हर काम करने वाले को 120 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से मनरेगा के ज़रिये 100 दिन का रोज़गार देने की गारंटी दी. मुलायम सिंह जी, मायावती जी बोलीं कि कांग्रेस पार्टी नाटक कर रही है. हमने हज़ारों करोड़ रुपया भेजा हरियाणा, केरल, असम, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश में मगर यूपी में, आपके जॉब कार्ड छिपा दिए गए. महिलाओं का पैसा मंत्रियों ने चोरी कर लिया.
उन्होंने फिर से सवाल किया कि पिछले 5 सालों में महिलाओं ने मुलायम सिंह जी या मायावती जी को गांव में देखा है? मैं बुंदेलखंड जाता हूं, मुझे तो एक बार भी नहीं दिखे वहां. 2007 में आपने मुलायम सिंह जी को भगाया, साइकिल को उठाकर फेंक दिया और हाथी को बैठाया सोचा कि हाथी मदद करेगा. मगर जादू का हाथी आपके पैसे खा जाता है.
उन्होंने भाजपा के इंडिया शाईनिंग नारे की भी धज्जियां उड़ाते हुए कहा कि 2004 में जब चुनाव हुए तो एनडीए के लोग आपके घरों में नहीं आए. टीवी देखकर कह दिया हिन्दुस्तान चमक रहा है. मैं अमेठी में था जब मैंने अंग्रेजी में नारा सुना तो मैंने कहा ‘बीजेपी की गाड़ी गई, बीजेपी के सबसे बड़े नेता ने सोचा टीवी कह रहा है तो हिन्दुस्तान चमक रहा होगा. राहुल गांधी यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि आधा हिन्दुस्तान अंग्रेजी वाले इस नारे को नहीं समझ पाया. महिलाओं ने कहा कि हमारे बच्चे भूखे हैं, स्कूलों में टीचर नहीं आ रहे. बीजेपी कौन से हिन्दुस्तान की बात कर रही है?
उन्होंने कहा कि मैं यहां आपसे वादे करने नहीं आया, इस प्रदेश को बदलने आया हूं और जब तक यह प्रदेश बदलेगा नहीं, हिलूंगा नहीं यहां से.
उन्होंने जाते-जाते एक बार रुककर जनता को बताया कि शारदा कैनाल की लड़ाई हमने रायबरेली में लड़ी है, पैसा स्वीकृत हो गया है. लेकिन, आप तक पहुंचा नहीं, क्योंकि लखनऊ में हाथी की सरकार है. हमने अपना काम कर दिया, अब आप अपना काम कीजिए. कांग्रेस पार्टी को जिताइये और अपनी कैनाल ले लीजिये.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • किसी का चले जाना - ज़िन्दगी में कितने लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें हम जानते हैं, लेकिन उनसे कोई राब्ता नहीं रहता... अचानक एक अरसे बाद पता चलता है कि अब वह शख़्स इस दुनिया में नही...
  • मेरी पहचान अली हो - हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फ़रमाते हैं- ऐ अली (अस) तुमसे मोमिन ही मुहब्बत करेगा और सिर्फ़ मुनाफ़ि़क़ ही तुमसे दुश्मनी करेगा तकबीर अली हो मेरी अज़ान अल...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं