-मो. रफ़ीक़ चौहान
हाल में युवा एवं संस्कृति विभाग कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय और सोसाइटी फॉर प्रमोशन कल्चर एंड ऑर्ट कुरुक्षेत्र ने संयुक्त रुप से कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के सभागार में महफ़िल-ए-क़व्वाली का आयोजन किया गया. यह महफ़िल स्टार न्यूज़ एजेंसी दिल्ली, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया करुक्षेत्र, बाबा फ़रीद सर्वधर्म सदभावना चैरिटेबल ट्रस्ट, हैलो हरियाणा मसिक पत्रिका, सन्हित रेडियो लिस्नर क्लब कुरुक्षेत्र, ओपी जिंदल जनकल्याणा संस्थान, जगसुमी इंटरप्राइजिज केबल नेटवर्कस, रेडियो धमाल करनाल और हरियाणा मुस्लिम ख़िदमत सभा के सौजन्य से आयोजित की गई.

मुख्य अतिथि कांग्रेस के महासचिव चौ. वीरेन्द्र सिंह ने दीप जलाकर समारोह का शुभारंभ किया. कार्यक्रम की अध्यक्षता कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के उप-कुलपित रिटायर्ड लेफ्टिनेंट डीडीएस संधू ने की. दिल्ली के मशहूर क़व्वाल क़ादिर निज़ामी और हुसैन हैदर निज़ामी की टीम ने दिलकश क़व्वालियों से दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया. आलम यह था कि आख़िर तक दर्शक अपनी कुर्सियों पर जमे रहे. इस मौक़े पर युवा एवं संस्कृति विभाग कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के निदेशक अनूप लाठर को उनके हरियाणा कला, संगीत एवं संस्कृति के उत्थान के लिए किए गए कार्यों के लिए संस्कृति दीप सम्मान से भी नवाज़ा गया.

समारोह के आयोजक और सोसाइटी फोर प्रमोशन कल्चर एंड ऑर्ट कुरुक्षेत्र के मीडिया प्रभारी सहायक प्रोफ़ेसर आबिद अली अंसारी ने बताया भारतीय कला और संस्कृति के उत्थान के लिए युवा एवं संस्कृति विभाग कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय और सोसाईटी फोर प्रमोशन कल्चर एंड ऑर्ट कुरुक्षेत्र संयुक्त रूप से वक़्त-दर-वक़्त इस तरह के कार्यक्रम आयोजित करते रहते हैं. विभिन्न समाजिक एवं व्यवसायिक संस्थाएं ऐसे कार्यक्रमों को कामयाब बनाने के लिए हर मुमकिन मदद करती हैं. उन्होंने बताया कि हमारी संस्थाओं का मुख्य उद्देश्य सिर्फ़ कला और सांस्कृतिक कार्यक्रमों को आयोजन करना ही नहीं है, बल्कि इन कार्यक्रमों के माध्यम से समाज में आपसी भाईचारा और सांप्रदायिक सौहार्द्र बढ़ाना भी है.

समारोह का मंच संचालन प्रो. आबिद अली अंसारी और प्रो. विजय लक्ष्मी ने किया. इसके इलावा इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए महेंद्र मुंडे, डॉ. चंदरपाल पूनिया और डॉ. अशोक शर्मा आदि ने भी योगदान दिया. समारोह में गणमान्य लोगों ने शिरकत की.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Blog

  • आलमे-अरवाह - मेरे महबूब ! हम आलमे-अरवाह के बिछड़े हैं दहर में नहीं तो रोज़े-मेहशर में मिलेंगे... *-फ़िरदौस ख़ान* शब्दार्थ : आलमे-अरवाह- जन्म से पहले जहां रूहें रहती हैं दहर...
  • अल्लाह और रोज़ेदार - एक बार मूसा अलैहिस्सलाम ने अल्लाह तआला से पूछा कि मैं जितना आपके क़रीब रहता हूं, आप से बात कर सकता हूं, उतना और भी कोई क़रीब है ? अल्लाह तआला ने फ़रमाया- ऐ म...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

Like On Facebook

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं