फ़िरदौस ख़ान
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज हरियाणा के सोनीपत स्थित भगत फूल सिंह महिला विश्वविद्यालय में छात्राओं को संबोधित करते हुए कन्या भ्रूण हत्या और महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों पर चिंता ज़ाहिर की. उन्होंने कहा कि आख़िर यहां लड़कियों की तादाद क्यों कम है. यह तो दिमाग़ी पिछड़ेपन की वजह से है. हमें लोगों के दिलों-दिमाग़ को बदलना है. कन्या भ्रूण हत्या के कलंक को धोना है. बलात्कार जैसी घटनाएं और दूसरे अपराध, अत्याचार जो बच्चियों और महिलाओं पर सारे देश में हो रहे हैं. इससे हम सबका सिर झुक जाता है. इस कलंक को ख़त्म करने के लिए ठोस कदम उठाने की ज़रूरत है. आप सब पढ़ी-लिखी बच्चियों की ज़िम्मेदारी बनती है. हम सबकी ज़िम्मेदारी बनती है. इस तरह की सामाजिक बुराइयों के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाएं. हमारी यूपीए सरकार ने महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए, उनके आर्थिक और सामाजिक विकास के लिए कई महत्वपूर्ण क़दम उठाए हैं. अभी हाल के बजट में एक हज़ार करोड़ रुपये की पूंजी से पहली बार एक ऐसा महिला बैंक स्थापित किया जाएगा, जो मुख्य रूप से महिलाओं द्वारा संचालित होगा और उनके कारोबार के लिए क़र्ज़ उपलब्ध कराएगा. एक हज़ार की करोड़ रुपये से निर्भय फंड की स्थापना भी की जा रही है. इसका उपयोग ऐसे कामों के लिए के लिए किया जाएगा, जिससे हम अपनी बेटियों, बहनों की गरिमा उनके मान-सम्मान को क़ायम रख सकें. पैतृक संपत्ति में हिस्सा देने, कार्यस्थलों में यौन उत्पीड़न रोकने और घरेलू हिंसा से सुरक्षा देने का क़ानून भी लागू किया गया है. महिलाओं के ख़िलाफ़ हो रहे अपराधों से निपटने के लिए भी जल्द क़ानून पारित किया जाएगा. आजीविका योजना के तहत महिला स्वयं सहायता समूहों को बैंकों से जोड़कर उनकी आमदनी बढ़ाने की व्यवस्था की गई है. पंचायतों और नगर पालिकाओं में चुनकर आ रही महिलाएं एक शक्तिशाली ताक़त बनकर उभर रही हैं और हमारे लोकतंत्र को मज़बूत कर रही हैं. यह तो महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए सिर्फ़ कुछ मिसालें हैं, तो बहनों और भाइयों, शिक्षा व्यक्ति की प्रतिभा, क्षमता और योग्यता को निखारकर उसके भाग्य का निर्माण करती है. एक अच्छे इंसान और नागरिक का निर्माण करती है. इसीलिए लड़कियों को अच्छी शिक्षा देना बहुत बड़ा सामाजिक धर्म है. अगर महिला तो शिक्षित होगी तो न केवल एक पूरा परिवार शिक्षित होगा, बल्कि पूरा समाज शिक्षित होगा. मुझे आशा है कि भगतफूल सिंह विश्वविद्यालय इस क्षेत्र में अपना विशिष्ट योगदान हमेशा देता रहेगा. इस अवसर पर मैं विश्वविद्यालय के अधिकारियों, अध्यापकों और विद्यार्थियों को हार्दिक बधाई देती हूं. विशेषकर उन विद्यार्थियों को जिन्होंने स्वर्ण पदक व अन्य पुरस्कार जीते हैं. इसके साथ ही आप छात्राओं को हार्दिक बधाई देती हूं, जो डिग्री पाकर नए जीवन में प्रवेश करेंगी. मैं आप सबके जीवन में प्रगति और उज्ज्वल भविष्य की कामना करती हूं और मुझे विश्वास है कि आप आने वाली सभी चुनौतियों का सामना करते हुए अपने लक्ष्य तक जरूर पहुंचेगे और अंत में मैं सबको धन्यवाद देती हूं.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • ज़िन्दगी की हथेली पर मौत की लकीरें हैं... - मेरे महबूब ! तुमको पाना और खो देना ज़िन्दगी के दो मौसम हैं बिल्कुल प्यास और समन्दर की तरह या शायद ज़िन्दगी और मौत की तरह लेकिन अज़ल से अबद तक यही रिवायत...
  • सबके लिए दुआ... - मेरा ख़ुदा बड़ा रहीम और करीम है... बेशक हमसे दुआएं मांगनी नहीं आतीं... हमने देखा है कि जब दुआ होती है, तो मोमिनों के लिए ही दुआ की जाती है... हमसे कई लोगों न...
  • लोहड़ी, जो रस्म ही रह गई... - *फ़िरदौस ख़ान* तीज-त्यौहार हमारी तहज़ीब और रवायतों को क़ायम रखे हुए हैं. ये ख़ुशियों के ख़ज़ाने भी हैं. ये हमें ख़ुशी के मौक़े देते हैं. ख़ुश होने के बहाने देते हैं....

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं