फ़िरदौस ख़ान
इंसान चाहे तो क्या नहीं कर सकता. अपनी हिम्मत और लगन के बूते वह नामुमकिन को भी मुमकिन बना सकता है. इसकी एक बेहतरीन मिसाल है स्टी़फन हॉकिंग, जिन्होंने असाध्य बीमारी के बावजूद कामयाबी के आसमान को छुआ. तक़रीबन 22 साल की उम्र में उन्हें एमियो ट्रोफिक लेटरल स्केलरोसिस नामक बीमारी हो गई थी. यह ऐसी बीमारी है, जो कभी ठीक नहीं होती. इसकी वजह से व्यक्ति का पूरा जिस्म अपंग हो जाता है, स़िर्फ दिमाग़ ही काम करने योग्य रहता है. स्टी़फन ने एक बार कहा था कि मैं भाग्यशाली हूं कि मेरा केवल शरीर बीमार हुआ है. मेरे मन और दिमाग़ तक रोग पहुंच नहीं पाया. हिंद पॉकेट बुक्स द्वारा प्रकाशित स्टी़फन हॉकिंग एक महान वैज्ञानिक नामक किताब एक महान वैज्ञानिक से रूबरू कराती है. स्टी़फन हॉकिंग न्यूटन और आइंस्टीन के समकक्ष ख़डे हैं. कॉस्मोलोजिस्ट, मैथेमेटिशियन, कैंब्रिज में ल्यूकेशियन प्रोफेसर, अंतरिक्ष और ब्लैक होल से पर्दा उठाने वाले, आकाश में काले गड्ढे ढूंढने वाले, अंतरिक्ष के अस्तित्व पर सवालिया निशान लगाने वाले स्टी़फन हॉकिंग ने 12 मानद उपाधियां हासिल कीं और अनेक पुरस्कारों से उन्हें नवाज़ा जा चुका है. उनकी किताब ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम ने ब्रिकी के रिकॉर्ड क़ायम किए. उन्होंने ज़ीरो ग्रेटीविटी फ्लाइट से अंतरिक्ष की यात्रा की.

यह किताब स्टी़फन हॉकिंग की ज़िंदगी के विभिन्न पहुलुओं पर रौशनी डालती है. इसमें उनकी निजी ज़िदगी के अलावा उनके कार्यों का भी लेखा-जोखा है. स्टीफन हॉकिंग ने एक आम व्यक्ति की तरह ही ज़िंदगी को जिया. यहां रिश्तों में मिठास भी है तो कहीं-कहीं क़डवाहट भी देखने को मिलती है, वजह चाहे जो भी रही हो. कहा जाता है कि कामयाबी पाना एक बात है और उसे पचा ले जाना दूसरी बात है. लगता है स्टी़फन के संबंध में भी यही हुआ. शायद वह अपनी कामयाबी को हज़म नहीं कर पाए. कहते हैं कि सफलता के घमंड में आगे चलकर उनका अनुसंधान कार्य कमज़ोर प़डने लगा. उनकी हिम्मत और धैर्य हठ में बदलने लगे. हालांकि वह सामान्य जीवन व्यतीत कर रहे थे, लेकिन उनकी अपेक्षाएं ब़ढने लगीं. जीवन के विभिन्न पहलू उन्हें प्रभावित करने लगे. अपनी इच्छाओं को पूरा करने में ही उनका अधिकांश समय बीतने लगा. किसी की बात अस्वीकार करना उन्हें कठिन लगने लगा. सभी का निमंत्रण स्वीकार करके हर जगह जाने लगे. विदेश यात्राएं, अलंकार, मेडल, सम्मान, प्रशंसा आदि सब एकत्र होकर स्टी़फन को अपनी पत्नी और बच्चों से दूर ले जाने लगे. उनके साथ जेन का विदेश जाना भी कम हो गया. इस कार्य को उनकी नर्सें करने लगीं. स्टी़फन के जीवन में जेन की सहभागिता कम होने लगी. अपने बीमार पति को साहस देने, ढांढस बंधाने और प्रेरित करने का काम लगभग समाप्त हो गया. अब एक ही काम बचा था. उन्हें हर समय यह बताना कि तुम परमात्मा नहीं हो और न बन सकते हो. 1990 तक उनका वैवाहिक जीवन सामान्य चल रहा था. विवाह को 25 वर्ष पूरे हो रहे थे. अत: उन्होंने इसे एक महोत्सव के रूप में मनाने का निर्णय लिया, लेकिन दूसरी ओर अलग ही खिच़डी पक रही थी. स्टी़फन का रोमांस अपनी नर्स इलाइन के साथ ब़ढ रहा था. यद्यपि जेन इस संबंध को उसी प्रकार स्वीकार करने को तैयार थीं जिस प्रकार स्टी़फन ने जेन और जोनाथन के संबंधों को स्वीकार किया था कि इस प्रकार का संबंध गुप्त रहेगा. परिवार और बच्चों को कोई नुक़सान नहीं पहुंचाएगा, लेकिन शायद अब पानी सिर के ऊपर से गुज़र रहा था. अक्टूबर 1989 में लूसी फ्रेंच और स्पेनिश प़ढने के लिए ऑक्सफोर्ड चली गई. रॉबर्ट अपनी परास्नातक की प़ढाई के लिए ग्लासगो चले गए. अवसर पाकर स्टी़फन ने जेन को अपने अलग होने और इलाइन के साथ रहने की चिट्ठी थमा दी. दोनों आकस्मिक रूप से अलग हो गए, लेकिन दोनों में से किसी ने भी इस संबंध विच्छेद की सार्वजनिक रूप से चर्चा नहीं की और न संबंध विच्छेद का कोई कारण ही बताया. हालांकि स्टी़फन ने अपने आपको बहुत भाग्यशाली माना है. उन्होंने अपनी पुस्तक ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम की भूमिका में स्वीकार किया है कि उनकी पत्नी जेन और बच्चों रॉबर्ट, लूसी एवं टिम की सहायता, सहयोग एवं प्रेरणा के बलबूते ही मैंने अपना साधारण जीवन जिया और इतना ऊंचा करियर बनाया. उन सबके सहयोग के बिना यह सब संभव नहीं था.

स्टी़फन की ख्याति दिनोदिन ब़ढ रही थी. बसंत 1989 की बात है जब एक फिल्म निर्माता गोरडन फ्रीडमेन ने स्टी़फन के सामने उनकी किताब ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम पर फिल्म बनाने का प्रस्ताव रखा. स्टी़फन तैयार हो गए, लेकिन उन्होंने इच्छा व्यक्त की कि उनकी फिल्म भी उनकी किताब की तरह ही होनी चाहिए, यानी ़िफल्म विज्ञान पर हो, वैज्ञानिक पर नहीं. आखिरकार फिल्म की शूटिंग शुरू हुई तो स्टी़फन ने महसूस किया कि कई साक्षात्कार कार्यक्रम और दृश्य, परिवार और दोस्तों के साथ फिल्माए जा चुके हैं, लेकिन यह बायोग्राफी तो आधी ही है. यानी उनकी पत्नी का इसमें कोई योगदान नहीं है. जेन से संपर्क किया गया और उनसे फिल्म में शामिल होने का अनुरोध किया गया, लेकिन जेन ने इस प्रस्ताव को सिरे से नकार दिया. शायद वह नहीं चाहती थीं कि उनकी व्यक्तिगत जीवन कैमरे के सामने आए. इस संबंध में स्टी़फन ने भी खामोशी अख्तियार कर ली. अकादमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट एंड साइन्स में 14 अगस्त, 1994 को इस फिल्म का प्रीमियर शो किया गया. फिल्म कामयाबी रही. इसके बाद स्टी़फन और इलाइन मेसन ने 16 सितंबर, 1995 को शादी कर ली. इस शादी में जेन और स्टीफन के बच्चे शामिल नहीं हुए.

असाध्य बीमारी के बावजूद स्टी़फन ने कभी हार नहीं मानी. एक साक्षात्कार में अपनी बीमारी के बारे में उन्होंने कहा था, मैं अपनी बीमारी के प्रति कृतज्ञ हूं, जिसके कारण मैं अपना पूरा ध्यान शोध कार्य में लगा सका और समय खाऊ कार्यों से बच सका. अगर मैं शारीरिक रूप से स्वस्थ होता तो शायद इतना न कर पाता. मैं अपनी इस बीमारी के कारण ही थ्योरिटिकल फिजिक्स में काम कर सका, क्योंकि इस काम में मेरी यह गंभीर बीमारी कभी बाधा नहीं बनी. इसका मुझे संतोष है. उन्होंने कॉस्मोलॉजी विषय को अपना शोध विषय बनाया और ब्रह्मांड की खोज में लग गए. अभी तक ब्रह्मांड के ओर-छोर का पता नहीं लग पाया है. उन्होंने अपने साथी कीप और पर्सकिल के साथ मिलकर ब्लैक होल्स पर भी का़फी काम किया है. उन्होंने बताया कि ब्लैक होल में जो कुछ भी जाएगा, स्वाहा हो जाएगा.

फिलहाल अपनी दूसरी पत्नी इलाइन से तलाक़ के बाद वह अकेले जीवन गुज़ार रहे हैं. 8 जनवरी, 2012 को उनका 70वां जन्मदिन मनाया गया. लोगों का कहना है कि एमियो ट्रोफिक लेटरल स्केलरोसिस जैसी बीमारी के बाद किसी को 50 वर्ष तक जीवित रहते नहीं देखा गया. वह विकलांगों के लिए भी काम करते हैं. उन्होंने विकलांगों के लिए उपलब्ध तकनीक का प्रसार किया. इसके लिए उन्हें प्राइड मोबिलिटी की तऱफ से क्वान्टम जेजी 1400 नाम की व्हीलचेयर भी मिली, जिसकी तुलना उन्होंने फेरारी गा़डी से की. परमाणु शक्ति का इस्तेमाल मानव कल्याण के लिए करने के हिमायती स्टी़फन चाहते हैं कि विज्ञान परमाणु की इस शक्ति को ऊर्जा के स्रोत के रूप में विकसित करे. बहरहाल, स्टी़फन हॉकिंग की यह जीवनी जहां इस महान वैज्ञानिक से रूबरू कराती है, वहीं यह भी सबक़ देती है कि इंसान को कभी मायूस नहीं होना चाहिए.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • किसी का चले जाना - ज़िन्दगी में कितने लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें हम जानते हैं, लेकिन उनसे कोई राब्ता नहीं रहता... अचानक एक अरसे बाद पता चलता है कि अब वह शख़्स इस दुनिया में नही...
  • मेरी पहचान अली हो - हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फ़रमाते हैं- ऐ अली (अस) तुमसे मोमिन ही मुहब्बत करेगा और सिर्फ़ मुनाफ़ि़क़ ही तुमसे दुश्मनी करेगा तकबीर अली हो मेरी अज़ान अल...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं