नई दिल्ली. गांधी हिन्दुस्तानी साहित्य सभा में आयोजित सोशल मीडिया एवं लेखन विषयक सन्निधि संगोष्ठी में डॉ सौरभ मालवीय सहित पांच को विष्णु प्रभाकर सम्मान से सम्मानित किया गया है.
यह समारोह काका साहब कालेलकर एवं विष्णु प्रभाकर की स्मृति में विष्णु प्रभाकर प्रतिष्ठान, गांधी हिन्दुस्तानी साहित्य सभा एवं इंडिया अनलिमिटेड के संयुक्त तत्वाधन में आयोजित किया गया. पत्रकारिता के क्षेत्र में योगदान के लिए माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय के सहायक प्राचार्य डॉ सौरभ मालवीय को विष्णु प्रभाकर पत्रकारिता सम्मान दिया गया, जबकि भागलपुर के मनोज सिन्हा को फोटो पत्रकारिता के क्षेत्र में उनके कार्यों के लिए विष्णु प्रभाकर फोटो पत्रकारिता सम्मान से सम्मानित किया गया. साहित्य के क्षेत्र में लेखन के लिए प्रज्ञा तिवारी, राजेन्द्र कुंवर फरियादी एवं कौशल उप्रेती को विष्णु प्रभाकर साहित्य सम्मान दिया गया.

सोशल मीडिया एवं लेखन विषय पर परिचर्चा में मुख्य वक्ता शम्भुनाथ शुक्ल, पद्मा सचदेवा, शिवेश प्रताप वक्ता मनोज भावुक, क्षमा शर्मा, अलका सिन्हा आदि ने अपने विचार रखे. समारोह में मुख्य अतिथि डोगरी साहित्य की चर्चित लेखिका पद्मा सचदेवा थीं, जबकि मुख्य वक्ता वरिष्ठ पत्रकार शम्भूनाथ शुक्ल थे.  कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रख्यात भाषा विज्ञानी डॉ विमिलेश कान्ति वर्मा ने की. मंच संचालन लतांत प्रसून ने किया. इंडिया अनलिमिटेड के शिवानन्द द्विवेदी ‘सहर’ ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया.

इस अवसर पर आशीष अंशु, रविशंकर, प्रवीण शुक्ल पृथक, संजीव सिन्हा (प्रवक्ता॰कॉम), भारत भूषण (प्रवक्ता॰कॉम), अनूप वर्मा, रितेश पाठक (योजना पत्रिका), राजेन्द्र देव, सुमित सिंह, अतुल कुमार, कुसुम शाह, किरण आर्य, ज्योत्सना भट्ट आदि उपस्थित थे.  

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • ज़िन्दगी की हथेली पर मौत की लकीरें हैं... - मेरे महबूब ! तुमको पाना और खो देना ज़िन्दगी के दो मौसम हैं बिल्कुल प्यास और समन्दर की तरह या शायद ज़िन्दगी और मौत की तरह लेकिन अज़ल से अबद तक यही रिवायत...
  • सबके लिए दुआ... - मेरा ख़ुदा बड़ा रहीम और करीम है... बेशक हमसे दुआएं मांगनी नहीं आतीं... हमने देखा है कि जब दुआ होती है, तो मोमिनों के लिए ही दुआ की जाती है... हमसे कई लोगों न...
  • लोहड़ी, जो रस्म ही रह गई... - *फ़िरदौस ख़ान* तीज-त्यौहार हमारी तहज़ीब और रवायतों को क़ायम रखे हुए हैं. ये ख़ुशियों के ख़ज़ाने भी हैं. ये हमें ख़ुशी के मौक़े देते हैं. ख़ुश होने के बहाने देते हैं....

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं