नई दिल्ली. विचार पोर्टल ‘प्रवक्‍ता डॉट कॉम’ (www.pravakta.com) के छह साल पूरे होने पर तृतीय ऑनलाइन लेख प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है. इस बार प्रतियोगिता का विषय है- ‘वेब मीडिया की बढ़ती स्‍वीकार्यता’. प्रथम पुरस्‍कार: रुपये 2500, द्वितीय पुरस्‍कार: रुपये 1500 एवं तृतीय पुरस्‍कार 1100 रुपये तय किया गया है.
हमारे भाई और प्रवक्‍ता डॉट कॉम के संपादक संजीव सिन्‍हा के अनुसार, लेख केवल हिन्दी भाषा में और 2000 से 3000 शब्दों के बीच होना चाहिए, जो 12 अक्‍टूबर, 2014 तक मिल जाना चाहिए. परिणाम की घोषणा 14 अक्‍टूबर, 2014 को ‘प्रवक्‍ता डॉट कॉम’ पर की जाएगी. सभी प्रतियोगियों को 16 अक्‍टूबर, 2014 को नई दिल्‍ली में आयोजित कार्यक्रम में प्रमाणपत्र दिए जाएंगे. लेख अप्रकाशित एवं मौलिक होना चाहिए. लेख के साथ जीवन परिचय (नाम/मोबाइल नंबर/ई-मेल/पता/संस्‍थान/पद आदि का ज़िक्र) एवं फ़ोटोग्राफ़ भी भेजें. पुरस्कार की राशि चेक द्वारा भेजी जाएगी. पुरस्‍कार के संबंध में निर्णायक मंडल का निर्णय सर्वोपरि होगा. अपना लेख ईमेल के ज़रिये prawakta@gmail.com / sanjeev.sinha78@gmail.com पर भेज सकते हैं. कृपया अपना लेख हिन्दी के यूनिकोड या कृतिदेव में ही भेजें.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • ईद तो हो चुकी - एक शनासा ने पूछा- ईद कब है? हमने कहा- ईद तो हो चुकी... उन्होंने हैरत से देखते हुए कहा- अभी तो रमज़ान चल रहे हैं... हमने कहा- ओह... आप उस ईद की बात कर रहे हैं...
  • या ख़ुदा तूने अता फिर कर दिया रमज़ान है... - *फ़िरदौस ख़ान* *मरहबा सद मरहबा आमदे-रमज़ान है* *खिल उठे मुरझाए दिल, ताज़ा हुआ ईमान है* *हम गुनाहगारों पे ये कितना बड़ा अहसान है* *या ख़ुदा तूने अता फिर कर ...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं