भोपाल (मध्य प्रदेश). नया मीडिया मंच और प्रवक्ता डॉट कॉम के संयुक्त तत्वावधान में प्रदेश की राजधानी भोपाल में राष्ट्रीय परिसंवाद का आयोजन किया जा रहा है. इस दौरान 'सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और सोशल मीडिया' एवं 'युवा, राजनीति और सोशल मीडिया' विषय पर विचार-विमर्श किया जाएगा. परिसंवाद का आयोजन 17 मई को स्वराज भवन में दोपहर 3 बजे से शुरू होगा. आयोजन में देशभर के विद्वान शामिल होंगे.
राष्ट्रीय परिसंवाद के संयोजक डॉ. सौरभ मालवीय ने बताया कि कार्यक्रम दो सत्रों में होगा. पहले सत्र में 'सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और सोशल मीडिया' जैसे गंभीर विषय पर विचार मंथन किया जाएगा. इस सत्र के मुख्य अतिथि पाञ्चजन्य, नई दिल्ली के संपादक हितेश शंकर होंगे और अध्यक्षता हरिभूमि, भोपाल के संपादक डॉ. संतोष मानव करेंगे. सत्र में वक्ता के नाते एबीपी न्यूज, मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ के ब्यूरो प्रमुख बृजेश राजपूत और माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के अध्यक्ष संजय द्विवेदी मौजूद रहेंगे, जबकि दूसरे सत्र में 'युवा, राजनीति और सोशल मीडिया' जैसे समसामयिक विषय पर विमर्श किया जाएगा. इस सत्र के मुख्य अतिथि आईबीएन-7 के उत्तप्रदेश ब्यूरो प्रमुख शलभ मणि त्रिपाठी होंगे और अध्यक्षता लोकमत समाचार के मध्यप्रदेश के ब्यूरो प्रमुख शिवअनुराग पटेरिया करेंगे. वक्ता के नाते इंडिया न्यूज की मध्यप्रदेश प्रमुख दीप्ती चौरसिया और भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोरंजन मिश्रा होंगे. डॉ. मालवीय ने बताया कि राष्ट्रीय परिसंवाद में शामिल होने के लिए प्रवक्ता डॉट कॉम के संपादक संजीव सिन्हा, शिवानन्द द्विवेदी, प्रकाश नारायण सिंह, पश्यन्ती शुक्ला, अमरनाथ झा और पृथ्क बटोही सहित अन्य विद्वान देशभर से भोपाल आएंगे.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • ज़िन्दगी की हथेली पर मौत की लकीरें हैं... - मेरे महबूब ! तुमको पाना और खो देना ज़िन्दगी के दो मौसम हैं बिल्कुल प्यास और समन्दर की तरह या शायद ज़िन्दगी और मौत की तरह लेकिन अज़ल से अबद तक यही रिवायत...
  • सबके लिए दुआ... - मेरा ख़ुदा बड़ा रहीम और करीम है... बेशक हमसे दुआएं मांगनी नहीं आतीं... हमने देखा है कि जब दुआ होती है, तो मोमिनों के लिए ही दुआ की जाती है... हमसे कई लोगों न...
  • लोहड़ी, जो रस्म ही रह गई... - *फ़िरदौस ख़ान* तीज-त्यौहार हमारी तहज़ीब और रवायतों को क़ायम रखे हुए हैं. ये ख़ुशियों के ख़ज़ाने भी हैं. ये हमें ख़ुशी के मौक़े देते हैं. ख़ुश होने के बहाने देते हैं....

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं