एड्स : बचाव ज़रूरी है

Posted Star News Agency Saturday, August 29, 2015


एचआईवी, हेपेटाइटिस बी और हेपेटाइटिस सी ये सभी बीमारियां रक्त के उत्पादों और यौन संबंधों के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे में चली जाती हैं. हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. के के अग्रवाल के मुताबिक़ गैर शिक्षित स्वास्थ्यकर्मियों से इंजेक्शन लेने से एचआईवी/एड्स फैलने का ख़तरा हो सकता है.
ट्रांसमिशन
एक व्यक्ति से दूसरे में एचआईवी की प्रक्रिया तब होती है, जब एचआईवी सवंमित व्यक्ति का आंतरिक तरल एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति की तहत तक पहुंचता है, जिसमें ब्लडस्ट्रीम शामिल होती है, तब वह दूसरे में पहुंचता है. आमतौर पर एचआईवी कई तरह दूसरे में पहुंचता है, जैसे एक ही सुई का इस्तेमाल, अनप्रोटेक्टेड एनल, वैजाइनल और कभी-कभी ओरल सेक्स और मां से शिशु में अगर उसे डिलीवरी से पहले इसकी समस्या हो साथ ही स्तनपान से भी. एचआईवी असुरक्षित तरीके से कई साथियों के साथ यौन संबंध बनाने से, रक्त के उत्पादों को लेने से, मां से शिशु में (जन्म से पहले या इसके दौरान या फिर स्तनपान के समय) और सहवास के दौरान (वैजाइनल और एनल). जेनिटल और रेक्टम में एचआईवी सीधे म्यूकस मेंब्रेन्स को संक्रमित कर सकता है या फिर कटने से भी या ज़ख़्म से भी सहवास के दौरान इसका संक्रमण संभव है. इसको ज़्यादातर लोग ध्यान नहीं देते हैं. वैजाइनल और एनल सहवास में सबसे ज़्यादा इसकी आशंका रहती है.
मुंह एचआईवी के लिए इनहास्पिटेबिल माहौल होता है (शुक्राणु, वैजाइनल फ्ल्यूड या ब्लड). इसका मतलब ये है कि एचआईवी फैलने का ख़तरा, गले, मसूड़े या ओरल मेंब्रेन्स से कम होता है बनिस्बत वैजाइनल या एनल मेंब्रेन्स के. ऐसे भी मामले सामने आए हैं, जो ओरल तरीक़े से इसका ट्रांसमिशन हुआ है, इसलिए हम नहीं कह सकते कि एचआईवी सवंमित सीमेन, वैजाइनल फ्ल्यूड या ब्लड मुंह में लेना ख़तरे से मुक्त है. हालांकि ओरल सैक्स में इसका ख़तरा कम रहता है.
एक इंजेक्शन की सुई से रक्त सीधे एक व्यक्ति से दूसरे के ब्लडस्ट्रीम में पहुंचता है. इसमें रक्त से जनित बीमारियों के फैलने की संभावना काफ़ी होती है. सुई को एक दूसरे के लिए शेयर करना उच्च आशंकित ख़तरे की श्रेणी में आता है. एचआईवी सवंमित मां से सीधे वायरस जन्म के दौरान या स्तनपान से शिशु में पहुंच सकता है. स्तनपान में एचआईवी होता है और थोड़ा सा भी दूध पिलाने से महत्वपूर्ण संक्रमण वयस्कों में भी संभव है, जो शिशु में इसके ट्रांसमिशन की पुष्टि करता है.
एचआईवी से बचाव के लिए प्रभावी रणनीति
एचआईवी के बारे में जानकारी और उसके बारे में समझदारी से ही इसके ट्रांसमिशन पर क़ाबू संभव है और संभवत: यही इसके क़ाबू पाने का सबसे प्रभावी तरीक़ा है.
कई लोगों से सैक्स संबंध से बचना और सुइयों को शेयर न करके भी एचआईवी के संक्रमण के साथ ही अन्य ट्रांसमिशन वाली बीमारियों से बचा जा सकता है. लेकिन अगर लोग इन विकल्पों से अपने आपको नहीं बचा सकते, तो वे बचाव के तरीक़े जैसे लैटेक्स कंडोम (पुरुष या महिला) चुन सकते हैं.
बचाव की तीन स्थितियां
-पहला, हर व्यक्ति को संक्रमण से बचाव के हर तरह के ज़रूरी क़दम उठाने चाहिए.
-दूसरा संक्रमित व्यक्ति जो यह नहीं जानता हो कि वह संक्रमित है, तो उसे इस बारे में जागरूक करें और इसके लिए ज़रूरी जांच करवाएं.
तीसरा यह कि जो पहले से ही इसकी गिरफ़्त में हो, तो उसे भी अन्य लोगों में यह बीमारी न हो, इसके लिए बचाव के ज़रूरी तरीक़े अपनाएं और इस बारे में अन्य को भी जागरूक करें.
एचआईवी संक्रमण से बचाव के सबसे ज्यादा प्रभावी तरीक़े
-वैजाइनल, एनल या ओरल सेक्स न करें.
-सिर्फ़ दो म्यूचुअली मोनोगैमस, असंक्रमित साथी से ही करें, साथ ही जो सुई या सिरिंज को शेयर न करते हों.
-बिना डॊक्टर के कहे इंजेक्शन न लें और न ही ड्रग्स लें.
-किसी भी क़ीमत पर सुई या सिरिंज को शेयर न करें. जब ग़ैर क़ानूनी तरीक़े से इंजेक्शन से ड्रग्स लेते हैं, दवाएं, विटामिन या स्टीरायड लेते हैं या फिर टैटू बनवाना या बॊडी पियर्सिंग करवाना.
-ऐसी किसी भी गतिविधि में हिस्सा न लें, जिसमें रक्त, शुक्राणु, वैजाइनल फ्ल्यूड्स या स्तनपान के बदलाव की प्रक्रिया शामिल हो.
एचआईवी संक्रमण को कम करने के तरीक़े
- लैटेक्स कंडोम का इस्तेमाल करना सबसे बढ़िया तरीक़ा है चाहे वैजाइनल, एनल या ओरल सैक्स करना हो.
- ड्रग्स या शराब का सेवन न करें, क्योंकि इससे आप बहक जाते हैं.
- साफ़-सुथरी सुई या सिंरिज जिसे क्लोरीन ब्लीच या पानी से साफ़ करें, यदि बचाव का अन्य कोई तरीक़ा नहीं रहा.
- जब ब्लड के संपर्क में आएं, तो बचाव की अन्य चीज़ें, जैसे लैटेक्स ग्लव्ज़ अपनाएं.
युध्द के लिए एक नया हथियार
एचआईवी कन्या, जिसमें अपहरण के बाद एचआईवी ब्लड ट्रांसफ्यूजन के ज़रिये, एचआईवी पॉजिटिव सिरिंज का उपयोग पैसे के लिए किया जा सकता है.
गत 4 अप्रैल 2009 को 52 वर्षीय जॉनसन अजीगा को हत्या का दोषी क़रार दिया गया था, जिसमें उसने अपने यौन संबंध बनाने वाले साथियों को इस बारे में नहीं बताया कि जिससे बाद में उनकी एड्स संबंधी बीमारी से मौत हो गई. कनाडा में यह अपने तरह का पहला मामला था और संभवत: दुनिया में एचआईवी पॉजिटिव का भी पहला मामला, जिसमें साथियों को न बताने पर व्यक्ति को दोषी क़रार दिया गया हो.
-अजीगा युगांडा का एक पूर्व सरकारी शोधकर्ता को दोषी पाया गया. उसने सात महिलाओं को संक्रमित किय. चार अन्य साथियों को वायरस नहीं पहुंचा. क्राउन ने दलील दी कि अजीगा ने महिलाओं को ''स्लो एक्टिंग पॉयजन'' से संक्रमित किया, जिससे उनका इम्यून सिस्टम गड़बड़ हुआ, जिसकी वजह से उनकी मौत कैंसर से हो गई. इसमें सैक्स को लेकर दलील नहीं सुनी गई, क्योंकि महिलाएं एचआईवी पॉजिटिव के बारे में जागरूक नहीं थीं.
- संक्रमित हेपेटाइटिस सी, हेपेटाइटिस बी और एचआईवी सभी के रक्त को मौत के लिए हथियार के तौर पर इस्तेमाल संभव है.
सुई से होने वाले ज़ख़्म
- औसतन सुई से होने वाले ज़ख़्म बिना प्राफीलैक्सिस के प्रति 1000 में क़रीब 3 ज़ख़्म के मामले सामने आते हैं. अनुमान के मुताबिक़ यह ख़तरा कम से कम 80 फ़ीसद होता है जब प्राफीलैक्सिस 3 घंटे के अंदर शुरू किया जाए. इस समय के हिसाब से लिया जाता है. हॉलो नीडिल में संक्रमण सबसे ज़्यादा होता है, हाई बोर नीडिल और धमनी या नस में घुसाने के दौरान.
- पहले तो स्वास्थ्यकर्मियों में हेपेटाइटिस बी वैक्सीन के दौरान फैला जाता था, हेपेटाइटिस बी वायरस के सूचक स्वास्थ्यकर्मियों में आम आबादी की तुलना में ज़्यादा वायरस होता था. 1991 के दिशा-निर्देशों के में सभी स्वास्थ्यकर्मियों को हेपेटाइटिस बी की वैक्सीन लेने के लिए कहा गया था. एक अध्ययन में सुझाव दिया गया कि इस रणनीति को काफ़ी सफ़ल देखा गया, जिससे स्वास्थ्यकर्मियों में इस वायरस के इंफ़ेक्शन के मामलों हेपेटाइटिस बी में तेज़ी से कमी यानी 95 फ़ीसद तक दर्ज की गई.
- रक्त जनित बीमारियों में हेपेटाइटिस बी वायरस से ज़्यादा संक्रमण फैलाने वाला होता है. यह परक्यूटेनियस और म्यूकोजल दोनों तरह से और मानव के काटने से भी फैलता है. यह अन्य तरह से भी फैल सकता है, जैसे फिंगर स्टिक डिवायस के इस्तेमाल से या फिर ग्लूकोज मापने के लिए रक्त लेने से, मल्टी डोज मेडिकेशन वायल, जेट गन इंजेक्टर और एंडोस्कोप से. यह वायरस सात दिनों तक ज़िन्दा रह सकता है और इतने दिनों तक संक्रमण फैला सकता है.
- स्वास्थ्यकर्मियों में एचसीवी इनफेक्शन का प्रचलन आम आबादी के समान होता है.  (स्टार न्यूज़ एजेंसी)

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • किसी का चले जाना - ज़िन्दगी में कितने लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें हम जानते हैं, लेकिन उनसे कोई राब्ता नहीं रहता... अचानक एक अरसे बाद पता चलता है कि अब वह शख़्स इस दुनिया में नही...
  • मेरी पहचान अली हो - हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फ़रमाते हैं- ऐ अली (अस) तुमसे मोमिन ही मुहब्बत करेगा और सिर्फ़ मुनाफ़ि़क़ ही तुमसे दुश्मनी करेगा तकबीर अली हो मेरी अज़ान अल...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं