महाराष्ट्र के वर्धा में आगामी 19 नवम्बर को नया मीडिया मंचतथा संचार एवं मीडिया अध्ययन केंद्र,महात्मा गाँधी अन्तर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा के संयुक्त तत्वावधान में राष्ट्रीय परिसंवाद का आयोजन किया जा रहा है. महाराष्ट्र के वर्धा स्थित हबीब तनवीर सभागार में दोपहर दो बजे से यह कार्यक्रम होना सुनिश्चित किया गया है. यह कार्यक्रम दो सत्रीय होगा. प्रथम सत्र ‘वैचारिक सत्र’ होगा, जिसमें “सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और सोशल मीडिया” जैसे सारगर्भित विषय पर विचार-विमर्श किया जाएगा तो वही दूसरा सत्र ‘छात्र संवाद’ का होगा, जिसमें ‘लोकतंत्र और सोशल मीडिया’ जैसे ज्वलंत विषय पर छात्रों संग चर्चा होगी. प्रथम सत्र में बतौर मुख्य अतिथि प्रख्यात सांस्कृतिक चिन्तक व विचारक माधव गोविन्दजी वैद्य उपस्थित रहेंगे. इस सत्र की अध्यक्षता महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्याय, वर्धा के कुलपति प्रो. गिरीश्वर मिश्र करेंगे. वक्ताओं में दैनिक भास्कर, नागपुर के संपादक मणिकांत सोनी और डा. सौरभ मालवीय, सहायक प्राध्यापक, माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, उपस्थित रहेंगे. इसी तरह दूसरे सत्र में बतौर मुख्य अतिथि मीडिया विशेषज्ञ सह ‘मीडिया विमर्श’पत्रिका के संपादक संजय द्विवेदी की उपस्थिति रहेगी. सत्र की अध्यक्षता संचार एवं मीडिया अध्ययन केंद्र, वर्धा विश्वविद्यालय के निदेशक प्रो अनिल कुमार राय करेंगे. वक्ता के रूप में प्रख्यात लेखक राजीव रंजन प्रसाद उपस्थित रहेंगे. पंकज झा, प्रवीण शुक्ल और आशीष अंशु भी उपस्थित रहेंगे. सत्र का संचालन वरिष्ठ पत्रकार अलका सिंह करेंगी. कार्यक्रम की जानकारी देते हुए संचार एवं मीडिया अध्ययन केंद्र, वर्धा तथा बर्ध विश्वविद्यालय के निदेशक  प्रो.अनिल कुमार राय ने बताया कि कार्यक्रम में देश के जाने–माने लेखकों, स्तंभकारों और संचारविद समेत शहर के कई गणमान्य लोग अपनी उपस्थिति दर्ज कराएंगे. 

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • फ़ासला रहे तुमसे... - *फ़्रिरदौस ख़ान* गुज़श्ता वक़्त का वाक़िया है... हमारे घर एक ऐसे मेहमान को आना था, जिनका ताल्लुक़ रूहानी दुनिया से है... हम उनके आने का बड़ी बेसब्री से इंतज़ार कर ...
  • सबके लिए दुआ... - मेरा ख़ुदा बड़ा रहीम और करीम है... बेशक हमसे दुआएं मांगनी नहीं आतीं... हमने देखा है कि जब दुआ होती है, तो मोमिनों के लिए ही दुआ की जाती है... हमसे कई लोगों न...
  • लोहड़ी, जो रस्म ही रह गई... - *फ़िरदौस ख़ान* तीज-त्यौहार हमारी तहज़ीब और रवायतों को क़ायम रखे हुए हैं. ये ख़ुशियों के ख़ज़ाने भी हैं. ये हमें ख़ुशी के मौक़े देते हैं. ख़ुश होने के बहाने देते हैं....

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं