महाराष्ट्र के वर्धा में आगामी 19 नवम्बर को नया मीडिया मंचतथा संचार एवं मीडिया अध्ययन केंद्र,महात्मा गाँधी अन्तर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा के संयुक्त तत्वावधान में राष्ट्रीय परिसंवाद का आयोजन किया जा रहा है. महाराष्ट्र के वर्धा स्थित हबीब तनवीर सभागार में दोपहर दो बजे से यह कार्यक्रम होना सुनिश्चित किया गया है. यह कार्यक्रम दो सत्रीय होगा. प्रथम सत्र ‘वैचारिक सत्र’ होगा, जिसमें “सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और सोशल मीडिया” जैसे सारगर्भित विषय पर विचार-विमर्श किया जाएगा तो वही दूसरा सत्र ‘छात्र संवाद’ का होगा, जिसमें ‘लोकतंत्र और सोशल मीडिया’ जैसे ज्वलंत विषय पर छात्रों संग चर्चा होगी. प्रथम सत्र में बतौर मुख्य अतिथि प्रख्यात सांस्कृतिक चिन्तक व विचारक माधव गोविन्दजी वैद्य उपस्थित रहेंगे. इस सत्र की अध्यक्षता महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्याय, वर्धा के कुलपति प्रो. गिरीश्वर मिश्र करेंगे. वक्ताओं में दैनिक भास्कर, नागपुर के संपादक मणिकांत सोनी और डा. सौरभ मालवीय, सहायक प्राध्यापक, माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, उपस्थित रहेंगे. इसी तरह दूसरे सत्र में बतौर मुख्य अतिथि मीडिया विशेषज्ञ सह ‘मीडिया विमर्श’पत्रिका के संपादक संजय द्विवेदी की उपस्थिति रहेगी. सत्र की अध्यक्षता संचार एवं मीडिया अध्ययन केंद्र, वर्धा विश्वविद्यालय के निदेशक प्रो अनिल कुमार राय करेंगे. वक्ता के रूप में प्रख्यात लेखक राजीव रंजन प्रसाद उपस्थित रहेंगे. पंकज झा, प्रवीण शुक्ल और आशीष अंशु भी उपस्थित रहेंगे. सत्र का संचालन वरिष्ठ पत्रकार अलका सिंह करेंगी. कार्यक्रम की जानकारी देते हुए संचार एवं मीडिया अध्ययन केंद्र, वर्धा तथा बर्ध विश्वविद्यालय के निदेशक  प्रो.अनिल कुमार राय ने बताया कि कार्यक्रम में देश के जाने–माने लेखकों, स्तंभकारों और संचारविद समेत शहर के कई गणमान्य लोग अपनी उपस्थिति दर्ज कराएंगे. 

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • मेरी इब्तिदा - मेरे महबूब ! मेरी इब्तिदा भी तुम हो और मेरी इंतेहा भी तुम है तुम्हीं तो हो अज़ल से अब्द तक... मेरे महबूब तुम्हें देखा तो जाना कि इबादत क्या है... *-फ़िरदौस ख़ान*
  • अज़ान क्या है - इन दिनों फ़ज्र की नमाज़ की अज़ान सुर्ख़ियों में है... आख़िर अज़ान क्या है और अज़ान में अरबी के जो लफ़्ज़ बोले जाते हैं, उनका मतलब क्या है? दरअसल, लोगों को नमाज़ के...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं