किसी पहाड़ पर...

Posted Star News Agency Wednesday, December 30, 2015 ,


नज़्म
किसी पहाड़ पर...
मेरे महबूब
आओ चलें
किसी पहाड़ पर
जहां
कल-कल करती नदिया हो
झर-झर गिरते झरने हों
शां-शां करते जंगल हों...
जहां
सहर उगे
सूरज की बनफ़शी किरनें
तन-मन को छू जाएं
दोपहर ढले
घने दरख़्तों के साये
बाहें फैलाये हमें बुलाएं
और
शाम सुहानी
रफ़ाक़त से भीगे मौसम के
मदभरे गीत सुनाए
रात चांदनी
बेला के गजरों से
महक-महक जाए...
आओ चलें
किसी पहाड़ पर
जहां
हरदम जाड़ो का मौसम रहता है...
-फ़िरदौस ख़ान

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं