खतना एक ऐसी पुरानी परंपरा है जिसे अक़्सर मुसलमानों से जोड़कर देखा जाता है लेकिन सच्चाई ये है कि इसका चलन ईसाइयों और यहूदियों में भी है ख़तना यानी Circumcision में पुरुष के शिश्न की आगे की त्वचा को पूरी तरह या आंशिक रूप से हटाया जाता है. “खतना लैटिन भाषा का शब्द है.

ख़तना के बारे में जानकारी गुफा के चित्रों और प्राचीन मिस्र की कब्रों से मिलती है. यहूदी संप्रदाय में पुरुषों की ख़तना को ईश्वर का आदेश माना जाता है. इस्लाम में हालांकि क़ुरान में इसकी चर्चा नहीं की गई है लेकिन यह व्यापक रूप से प्रचलित है और अक्सर इसे सुन्नत यानी अनिवार्य माना जाता है.। यह अफ्रीका में कुछ ईसाई चर्चों में भी प्रचलित है, जिनमें कुछ ओरिएंटल ऑर्थोडॉक्स चर्च भी शामिल हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार विश्व में 30 प्रतिशत पुरूषों की ख़तना हो चुकी है जिनमें से 68 प्रतिशत मुसलमान हैं. ख़तना का प्रचलन अधिकांशतः धार्मिक संबंध और कभी-कभी संस्कृति, के साथ बदलता है. अमूमन ख़तना सांस्कृतिक या धार्मिक कारणों से किशोरवस्था में की जाती है और कुछ देशों में इसे शैशवावस्था में ही किया जाता है.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • ज़िन्दगी की हथेली पर मौत की लकीरें हैं... - मेरे महबूब ! तुमको पाना और खो देना ज़िन्दगी के दो मौसम हैं बिल्कुल प्यास और समन्दर की तरह या शायद ज़िन्दगी और मौत की तरह लेकिन अज़ल से अबद तक यही रिवायत...
  • सबके लिए दुआ... - मेरा ख़ुदा बड़ा रहीम और करीम है... बेशक हमसे दुआएं मांगनी नहीं आतीं... हमने देखा है कि जब दुआ होती है, तो मोमिनों के लिए ही दुआ की जाती है... हमसे कई लोगों न...
  • लोहड़ी, जो रस्म ही रह गई... - *फ़िरदौस ख़ान* तीज-त्यौहार हमारी तहज़ीब और रवायतों को क़ायम रखे हुए हैं. ये ख़ुशियों के ख़ज़ाने भी हैं. ये हमें ख़ुशी के मौक़े देते हैं. ख़ुश होने के बहाने देते हैं....

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं