देश में नया गुड्स ऐंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) एक जुलाई 2017 से लागू हो गया है. जीएसटी काउंसिल ने 1200 से ज़्यादा चीज़ों और सेवाओं के लिए टैक्स दरें तय की हैं. अलग-अलग कर श्रेणियां बनाई गई हैं, जो 5 से 28 फ़ीसद के बीच हैं. इनमें से 81 फ़ीसद चीज़ें 18 फ़ीसद कर दर के नीचे आ गई हैं.
खाने-पीने की कई चीज़ों को शून्य कर श्रेणी में रखा गया है.
ताज़ा दूध
खुला खाद्य अनाज
ताज़ा फल
ताज़ी सब्ज़ियां
नमक
गुड़
अंडे
खुला पनीर
चावल, पापड़, रोटी
किताबें
जानवरों का चारा
जलावन की लकड़ी
चूड़ियां (सस्ती)
फूल भरी झाड़ू
कंडोम
गर्भनिरोधक दवाएं
नये गुड्स ऐंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) के तहत इन चीज़ों पर 5 फ़ीसद कर लगेगा.
चाय, कॉफ़ी
खाने का तेल
ब्रांडेड अनाज
सोयाबीन
सूरजमुखी के बीज
ब्रांडेड पनीर
कोयला (400 रुपये प्रति टन लेवी के साथ)
केरोसीन
घरेलू उपभोग के लिए एलपीजी
काजू-किशमिश
500 रुपये तक क़ीमत के जूते
1000 रुपये क़ीमत तक के कपड़े
ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्ट
ज्योमेट्री बॉक्स
कृत्रिम किडनी
हैंड पंप
लोहा
स्टील
लोहे की मिश्रित धातुएं
तांबे के बर्तन
अगरबत्ती
नये गुड्स ऐंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) के तहत इन चीज़ों पर 12 फ़ीसद कर लगेगा.
ड्राई फ्रूट्स
घी, मक्खन
नमकीन
मांस-मछली
दूध से बने ड्रिंक्स
फ़्रोज़ेन मीट
मोमबत्ती
अगरबत्ती
बायो गैस
एनेस्थेटिक्स
दंत मंजन पाउडर
चश्मे के लेंस
बच्चों की ड्रॉइंग बुक
कैलेंडर्स
एलपीजी स्टोव
नट, बोल्ट, पेंच
ट्रैक्टर
साइकल
एलईडी लाइट
खेल का सामान
आर्ट वर्क
मोबाइल फ़ोन
नये गुड्स ऐंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) के तहत इन चीज़ों पर 18 फ़ीसद कर लगेगा.
रिफाइंड शुगर
कंडेंस्ड मिल्क
प्रिजर्व्ड सब्ज़ियां
जैम, जेली
सॉस
सूप
आइसक्रीम
इंस्टैंट फूड मिक्सेस
मिनरल वॉटर
बालों का तेल
साबुन
हेलमेट
नोटबुक
पेट्रोलियम जेली
पेट्रोलियम कोक
प्रिंटर
कंप्यूटर
टॉयलेट पेपर
नये गुड्स ऐंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) के तहत इन चीज़ों पर 28 फ़ीसद कर लगेगा.
मोटर कार
मोटर साइकल
चॉकलेट
कोकोआ बटर
फैट्स
ऑयल
पान मसाला
फ़्रिज़
परफ़्यूम, डियोड्रेंट
मेकअप का सामान
वॉल पुट्टी
दीवार के पेंट
टूथपेस्ट
शेविंग क्रीम
आफ़्टर शेव
लिक्विड सोप
प्लास्टिक प्रोडक्ट
रबर टायर
चमड़े के बैग
मार्बल, ग्रेनाइट, प्लास्टर, माइका
टेम्पर्ड ग्लास
रेज़र
डिश वॉशिंग मशीन
मैनिक्योर, पैडिक्योर सेट
पियानो
रिवॉल्वर

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • जब राहुल गांधी के ख़िलाफ़ लिखने को कहा गया... - *फ़िरदौस ख़ान* ये उन दिनों की बात है, जब कांग्रेस के तत्कालीन महासचिव (अब उपाध्यक्ष) राहुल गांधी भूमि अधिग्रहण विधेयक को लेकर अपनी ही सरकार के ख़िलाफ़ खड़े थे.....
  • शुगर का देसी इलाज... - गिलोय की बेल के पत्ते खाने से शुगर का स्तर कम हो जाता है... हमारी एक हमसाई की शुगर का स्तर हमेशा 250 से ज़्यादा रहता था... वो हमारे घर से हर रोज़ गिलोय के प...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं