फ़िरदौस ख़ान
हरियाणा कांग्रेस ने आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनावों की तैयारी शुरू कर दी है. इन चुनावों में अब ज़्यादा वक़्त नहीं बचा है. जो वक़्त बचा है, पार्टी उसे गंवाना नहीं चाहती, इसीलिए पार्टी नेता अपनी जीत सुनिश्चत करने के लिए मेहनत में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहते. इसी क़वायद के मद्देनज़र हरियाणा कांग्रेस ने प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी सरकार के ख़िलाफ़ मुहिम शुरू कर दी है. इसके तहत कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर की अगुवाई में 5 मार्च से साइकिल यात्रा शुरू की जा रही है.  इसे ’परिवर्तन लाओ-हरियाणा बचाओ’ का नाम दिया गया है. कालका से शुरू होने वाली यह यात्रा 6 मार्च को नारायणगढ़, 7 मार्च को मुलाना, 8 को जगाधरी, 9 को कुरुक्षेत्र और 10 मार्च को अंबाला पहुंचेगी. यह यात्रा 11 मार्च को पिहोवा पहुंचेंगी. पिहोवा में एक जनसभा का आयोजन किया जाएगा, जिसमें कांग्रेस नेता जनता को संबोधित करते हुए उससे भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के ख़िलाफ़ समर्थन मांगेंगे. लाल रंग की साइकिलों पर सवार पार्टी कार्यकर्ता राहुल गांधी और अशोक तंवर का मुखौटा पहनेंगे. इसके साथ ही वे ’मुझमें राहुल-मुझमें तंवर’ के नारे लगाएंगे.

ग़ौरतलब है कि 5 मार्च से हरियाणा का विधानसभा सत्र शुरू हो रहा है. इसी के मद्देनज़र कांग्रेस ने सरकार घेरने की तैयारी की है. कांग्रेस के विधायक जहां सदन के भीतर सरकार को घेरेंगे, वहीं कांग्रेस के पदाधिकारी सदन के बाहर जनमानस के बीच सरकार से जवाब तलब करेंगे. कांग्रेस भारतीय जनता पार्टी की सरकार से चुनावी घोषणा-पत्र में किए गए वादों का हिसाब मांगेगी. चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी ने किसानों से, मज़दूरों से, कारोबारियों से, कर्मचारियों से बहुत से लुभावने वादे किए थे, लेकिन सत्ता में आने के बाद उन वादों को भुला दिया गया.

इस यात्रा का मक़सद कांग्रेस की विचारचारा को जनमानस तक पहुंचाना है. इस यात्रा के ज़रिये देश और प्रदेश में कांग्रेस का जनाधार बढ़ाने की कोशिश की जा रही है. साइकिल यात्रा का यह पहला चरण है. इसके तहत राज्य के उत्तरी हिस्से को कवर किया जाएगा. इसके बाद के चरणों में प्रदेश के सभी 90 विधानसभा क्षेत्रों में यह यात्रा निकाली जाएगी. 

एक नज़र

ई-अख़बार

Blog

  • सब मेरे चाहने वाले हैं, मेरा कोई नहीं - हमने पत्रकार, संपादक, मीडिया प्राध्यापक और संस्कृति कर्मी, मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक प्रो. संजय द्विवेदी की किताब 'उर्दू पत्रकारिता का भवि...
  • रमज़ान और शबे-क़द्र - रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है जिसे शबे क़द्र कहा जाता है. शबे क़द्र का अर्थ होता है " सर्वश्रेष्ट रात " ऊंचे स्...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Like On Facebook

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं