मुस्लिम विवाह विच्छेद अधिनियम-1939 द्वारा मुस्लिम पत्नीर को निम्नालिखित आधारों पर तलाक़ पाने का अधिकार दिया गया है-
1. चार वर्षों से पति के संबंध में कोई जानकारी न हो
2. पति दो वर्ष से उसका भरण-पोषण नहीं कर रहा हो
3. पति सात वर्ष या उससे अधिक का कारावास दे दिया गया हो
4. किसी समुचित कारण के बिना पति तीन वर्ष से अपने वैवाहिक दायित्वों का निर्वाह नहीं कर रहा हो
5. पति नपुंसक हो
6.  पति दो वर्ष से पागल हो
7. पति कुष्ठक रोग या उग्र रति रोग से पीड़ित हो
8. उसकी (पत्नीो) शादी 15 वर्ष की आयु पूरी होने से पहले हो चुकी हो और उसने पति के साथ सहवास न किया हो
9. पति का व्यनवहार क्रूर रहा हो
10. पति अन्य औरतों के साथ संबंध रखता हो और सहवास करता हो, और उस पर दूसरे आदमी के साथ संबंध बनाने पर दबाव डालता हो
11. पति ने पत्नी की सम्पत्ति को खुर्द-बुर्द कर दिया हो और उसके मौलिक अधिकारों मे अड़चन पैदा करता हो
12. पति-पत्नी के क़ुरआन के मुताबिक़ धार्मिक कामों में रुकावट डालता है
13. पति की एक से अधिक पत्नियां होने पर समानता का व्यवहार न करता हो
इसके इलावा और जो भी तलाक़ जनित पति द्वारा कार्य किए गए हों
मो. रफीक चौहान एडवोकेट 
करनाल (हरियाणा)

एक नज़र

ई-अख़बार

Blog

  • सब मेरे चाहने वाले हैं, मेरा कोई नहीं - हमने पत्रकार, संपादक, मीडिया प्राध्यापक और संस्कृति कर्मी, मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक प्रो. संजय द्विवेदी की किताब 'उर्दू पत्रकारिता का भवि...
  • रमज़ान और शबे-क़द्र - रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है जिसे शबे क़द्र कहा जाता है. शबे क़द्र का अर्थ होता है " सर्वश्रेष्ट रात " ऊंचे स्...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Like On Facebook

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं