सभी संतों ने सिखलाया, प्रभु का नाम है जपना।
सुनहरे कल भी आयेंगे, दिखाते रोज एक सपना।
वतन आजाद वर्षों से बढ़ी जनता की बदहाली,
भले छत हो न हो सर पे, ये सारा देश है अपना।।

कोई सुनता नहीं मेरी, तो गाकर फिर सुनाऊं क्या?
सभी मदहोश अपने में, तमाशा कर दिखाऊं क्या?
बहुत पहले भगत ने कर दिखाया था जो संसद में,
ये सत्ता हो गयी बहरी, धमाका कर दिखाऊं क्या?

मचलना चाहता है मन, नहीं फिर भी मचल पाता।
जमाने की है जो हालत, कि मेरा दिल दहल जाता।
समन्दर डर गया है देखकर आंखों के ये आंसू,
कलम की स्याह धारा बनके, शब्दों में बदल जाता।।

लिखूं जन-गीत मैं प्रतिदिन, ये सांसें चल रहीं जबतक।
कठिन संकल्प है देखूं, निभा पाऊंगा मैं कबतक।
उपाधि और शोहरत की ललक में फंस गई कविता,
जिया हूं बेचकर श्रम को, कलम बेची नहीं अबतक।।

खुशी आते ही बाहों से, न जाने क्यों छिटक जाती?
मिलन की कल्पना भी क्यों, विरह बनकर सिमट जाती?
सभी सपने सदा शीशे के जैसे टूट जाते क्यों?
अजब है बेल कांटों की सुमन से क्यों लिपट जाती?
-श्यामल सुमन


(श्यामल सुमन टाटा स्टील, जमशेदपुर में प्रशासनिक पदाधिकारी हैं)

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं