बीस घरों के राग रंग में अस्सी चूल्हे बन्द हुए क्यों?
लोकतंत्र के प्रायः प्रहरी इतने आज दबंग हुए क्यों?
दुबक गए घर बुद्धिजीवी खुद को मान सुरक्षित।
चहुं ओर है धुंआ-धुंआ ही यह क्यों नहीं परिलक्षित?
दग्ध हुई मानवता जिसको मिलकर नहीं सहलायेंगे।
तो इस आग में हम भी जल जायेंगे।।

जन के ही सर पग धर कोई लोकतंत्र के मंदिर जाता।
पद पैसा प्रभुता की खातिर अपना सुर और राग सुनाता।
उनकी चिन्ता किसे सताती जो जन राष्ट्र की धमनी है।
यही व्यवस्था की निष्ठुरता उग्रवाद की जननी है।
राष्ट्रवाद उपहास बनेगा गर कुछ न कर पायेंगे।
तो इस आग में हम भी जल जायेंगे।।

बना हिन्द बाजार जहां नित गिद्ध विदेशी मंडराते हैं
यहीं के श्रम और साधन से परचम अपना फहराते हैं।
विश्व-ग्राम नहीं छद्म-गुलामी का लेकर आया पैगाम।
आजादी के नव-विहान हित अलख जगायें हम अविराम।
सजग रहे माली उपवन का तभी सुमन खिल पायेंगे।
या इस आग में हम भी जल जायेंगे।।
-श्यामल सुमन

(श्यामल सुमन टाटा स्टील, जमशेदपुर में प्रशासनिक पदाधिकारी हैं)

एक नज़र

ई-अख़बार

Blog

  • सब मेरे चाहने वाले हैं, मेरा कोई नहीं - हमने पत्रकार, संपादक, मीडिया प्राध्यापक और संस्कृति कर्मी, मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक प्रो. संजय द्विवेदी की किताब 'उर्दू पत्रकारिता का भवि...
  • रमज़ान और शबे-क़द्र - रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है जिसे शबे क़द्र कहा जाता है. शबे क़द्र का अर्थ होता है " सर्वश्रेष्ट रात " ऊंचे स्...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Like On Facebook

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं