ठंडी हवाएं

Posted Star News Agency Wednesday, January 06, 2010



ठंडी हवाएं ! फुटपाथों पर भूख, गरीबी, के कम्बल भी काम ना आये !!

पुलिसवालों को दौड़ाया !

पहले भाग निकलने वाला, शायद नंबर वन पर आया !!
जालसाजी !
बिना जाल फैंके ही मछली, फंसने हेतु हो गयी राज़ी !!

अलाव की आस !
मरने से पहले दे देगा, नगर-निगम को है विश्वास !!

अन्याय !
सरकारी सर्विस में भी ग़र, हो ना कहीं अन्य से आय !!

मंसूबे !
जो भी आये बचाने उसको, अपने साथ खींचकर डूबे !!

महापाप !
पापकर्म करके भी कोई, करे नहीं जब पश्चाताप !!

दहशतगर्दी !
दहशत भी तो कांप रही थी, उसकी ऐसी हालत कर दी !!

लापरवाही !
जो अवैध फड लगवाये हैं, उनसे ग़र ना करें उगाही !!

सूचना !
यही सूचना है कि "इसको, आगे से मत पूछना !!"
-अतुल मिश्र

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं