ठंडी हवाएं

Posted Star News Agency Wednesday, January 06, 2010



ठंडी हवाएं ! फुटपाथों पर भूख, गरीबी, के कम्बल भी काम ना आये !!

पुलिसवालों को दौड़ाया !

पहले भाग निकलने वाला, शायद नंबर वन पर आया !!
जालसाजी !
बिना जाल फैंके ही मछली, फंसने हेतु हो गयी राज़ी !!

अलाव की आस !
मरने से पहले दे देगा, नगर-निगम को है विश्वास !!

अन्याय !
सरकारी सर्विस में भी ग़र, हो ना कहीं अन्य से आय !!

मंसूबे !
जो भी आये बचाने उसको, अपने साथ खींचकर डूबे !!

महापाप !
पापकर्म करके भी कोई, करे नहीं जब पश्चाताप !!

दहशतगर्दी !
दहशत भी तो कांप रही थी, उसकी ऐसी हालत कर दी !!

लापरवाही !
जो अवैध फड लगवाये हैं, उनसे ग़र ना करें उगाही !!

सूचना !
यही सूचना है कि "इसको, आगे से मत पूछना !!"
-अतुल मिश्र

एक नज़र

ई-अख़बार

Blog

  • सब मेरे चाहने वाले हैं, मेरा कोई नहीं - हमने पत्रकार, संपादक, मीडिया प्राध्यापक और संस्कृति कर्मी, मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक प्रो. संजय द्विवेदी की किताब 'उर्दू पत्रकारिता का भवि...
  • रमज़ान और शबे-क़द्र - रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है जिसे शबे क़द्र कहा जाता है. शबे क़द्र का अर्थ होता है " सर्वश्रेष्ट रात " ऊंचे स्...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Like On Facebook

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं