स्टार न्यूज़ एजेंसी
मिल्कीपुर (उत्तर प्रदेश). कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने  कहा है कि चुनाव में अभी 15 दिन और बाक़ी हैं तथा बस पंद्रह दिन और हाथी जनता का पैसा खाएगा, क्योंकि चुनाव के बाद इस जादुई हाथी का सफ़ाया हो जाएगा. उन्होंने कहा कि ‘मनरेगा और स्वास्थ्य का सारा पैसा हाथी खा गया.
यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि जब बुनकर हमारे पास आए और उन्होंने बताया कि वो मुसीबत में हैं, उन्हें मदद चाहिए. हमने तत्काल उन्हें हज़ारों करोड़ रुपये का पैकेज दिया, छूट दिलवाई, बुनकर क्रेडिट कार्ड दिलाया.
किसानों के मुद्दे पर बात करते हुए राहुल गांधी ने सभा में हज़ारों की संख्या में पहुंचे तमाम लोगों से सवाल किया कि यहां कितने लोग किसान है?’’ अधिकांश हाथ उठ खड़े हुए. राहुल गांधी ने बताया कि किसानों ने हमें आकर बताया कि हम लोग खेतों में मेहनत करते है, पसीना बहाते हैं और हमारे लिए बैंक के दरवाज़े बंद पड़े हुए हैं. हमने किसानों का 60 हज़ार करोड़ रुपये का क़र्ज़ माफ़ किया और बैंकों के दरवाज़े खुलवा दिए.
बुंदेलखंड की बदहाली के बारे में बताते हुए कांग्रेस महासचिव ने कहा कि वहां के लोगों ने आकर बताया कि सूखा पड़ा है, राज्य सरकार से कोई मदद नहीं मिल रही है. हम उनके साथ प्रधानमंत्री जी के पास गए. प्रधानमंत्री जी ने उनकी मदद के लिए हज़ारों करोड़ रुपये का पैकेज दिया.
राहुल गांधी ने कहा कि उन्हें बहुत बुरा लगा कि बुंदेलखंड में लोग परेशान थे और उत्तर प्रदेश में आपकी सरकार ने ही आपकी मदद नहीं की. लेकिन फिर क्या हुआ? आपकी मदद के लिए भेजा गया रुपया आप लोगों तक नहीं पहुंचा, क्योंकि यह पैसा रास्ते में ही लखनऊ में बैठा जादू का हाथी खा गया.
राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने मनरेगा, जननी सुरक्षा योजना, सूचना का अधिकार दिया और अब खाद्य सुरक्षा क़ानून देने जा रहे है, जिससे हर ग़रीब परिवार को 35 किलो अनाज दिया जाएगा. इसके बाद हिंदुस्तान में कोई भी भूखा नहीं सोएगा.
अब चुनाव आया है तो यही सब लोग एक बार फिर आ गए हैं और कहते हैं कि उत्तर प्रदेश को बदल देंगे. राहुल गांधी ने विपक्षियों से सवाल किया कि पिछले 22 सालों में उन्होंने क्या किया? उन लोगों ने तब उत्तर प्रदेश को क्यों नहीं बदला? उन्होंने इसके बाद जनता से सवाल किया कि अब आप लोग मुझे बताइए कि पिछले 22 सालों में विपक्ष के लोगों ने आपको क्या दिया? सभा में मौजूद हज़ारों लोगों ने एक स्वर में जवाब दिया कि सबने मिलकर सिर्फ़ लूटा ही है.
राहुल गांधी ने कहा कि 2004 में केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनी.बाक़ी लोग आए और उन्होंने आपसे 15-20 वादे किए, लेकिन कांग्रेस पार्टी ने आपसे सिर्फ़ एक वादा किया, अगर कांग्रेस की सरकार बनेगी,तो वो आम आदमी की सरकार होगी, पिछड़ो की सरकार होगी, सबकी सरकार होगी. एनडीए इंडिया शाइनिंग का नारा देने वाले नेता आप लोगों के बीच नहीं आए, आपसे बात नहीं की, बस बंद एसी कमरों में बैठकर कह दिया कि हिंदुस्तान चमक रहा है. अगर ये नेता आपके बीच आए होते, तो उन्हें ऐसा कहने में शर्म आती. पिछले 22 सालों में आपका प्रदेश बहुत पिछड़ गया है. दूसरे राज्यों को देखिए, जहां कांग्रेस की सरकारें हैं, वो काफ़ी तेज़ी से आगे बढ़ रहे हैं.
राहुल गांधी ने बताया कि 2004 में सरकार बनी तो सबसे पहला काम मनरेगा देने का किया. हम बंद एसी कमरों में बैठे नहीं रहे. हम आपके पास आए, आपसे पूछा कि आप लोग क्या चाहते हैं? आपने हमें बताया कि जिस तरह से शहरों में रोज़गार मिल जाता है, उसी तरह से गांव में भी रोज़गार मिलना चाहिए.
राहुल गांधी ने कहा कि हम यहां बहुत सारे वादे करने नहीं आए हैं, हम उत्तर प्रदेश को बदलने आए हैं.  आप लोगों ने दूसरी पार्टियों को 22 साल दिए, हमें सिर्फ़ पांच साल दीजिए. हम लोग आप लोगों के लिए जो भी कर सकते हैं, करते हैं और करते रहेंगे. दिल्ली में आपकी अपनी सरकार है, अब उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बनाइए. अब आप उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार लाइए और देखिए पांच सालों में उत्तर प्रदेश विकास की राह पर फिर से चल पड़ेगा और अगले 10 सालों में लोग उत्तर प्रदेश को पहचान नहीं पाएंगे.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है... - एक सवाल अकसर पूछा जाता है, दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है...? अमूमन लोग इसका जवाब भी जानते हैं... कई बार हम जानते हैं, और समझते भी हैं, ...
  • दस बीबियों की कहानी - *बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम* कहते हैं, ये एक मौजज़ा है कि कोई कैसी ही तकलीफ़ में हो, तो नीयत करे कि मेरी मुश्किल ख़त्म होने पर दस बीबियों की कहानी सुनूंगी, त...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं