स्टार न्यूज़ एजेंसी
सिधौली (उत्तर प्रदेश). 
कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने आज सिधौली विधानसभा क्षेत्र के भानपुर मैदान में एक जनसभा को संबोधित किया, जहां उन्होंने अपना संबोधन शुरू करने से पहले सभा में मौजूद तमाम अल्पसंख्यकों को  बारह रबीउल अव्वल की मुबारकबाद दी.
इसके बाद  उन्होंने ने लोगों से कहा कि विधानसभा चुनाव सबके सामने है, जो यह फ़ैसला करेगा कि अगले पांच सालों में उत्तर प्रदेश में क्या होगा? अब चुनाव आया है तो सबके वादे शुरू हो गए, कह रहे हैं कि बुंदेलखंड को इजराइल में बदल देंगे. अगर ख़ुद वहां गए होते तो वहां के लोग उनसे कहते कि हमें इजराइल नहीं, बुंदेलखंड चाहिए, पानी चाहिए, बिजली चाहिए, विकास चाहिए. उसके बाद इजराइल, बुंदेलखंड मांगेगा.
राहुल गांधी ने कहा कि विपक्षी कहते हैं कि बिजली मुफ्त में देंगे. कहां से देंगे? पिछले 22 सालों से कोई विकास नहीं हुआ, कोई कारख़ाना नहीं लगा, तो फिर बिजली आसमान से लाएंगे क्या? उन्होंने बताया कि मैं 2004 से राजनीति में हूं और उस समय के लोकसभा चुनावों में हमने लोगों से एक ही बात कही थी कि अगर केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनेगी तो वह आम आदमी की सरकार होगी. जो भी काम सरकार करेगी, ग़रीबों के बारे में सोचकर करेगी. हमारी नीयत साफ़ है, जो भी काम करेंगे, दिल से करेंगे.
कांग्रेस महासचिव ने कहा कि विपक्ष ने कभी दिल की बात नहीं की, साफ़ नीयत की बात नहीं की, बस कह दिया कि ये करेंगे, वो करेंगे. लोगों से 15-20 वादे कर दिए और कह दिया कि हिंदुस्तान चमक रहा है, आप लोगों के बीच नहीं आए, आपसे पूछा नहीं और टीवी देखकर दे दिया नारा, इंडिया शाईनिंग. अगर उन्होंने कहा होता कि हिंदुस्तान चमकेगा तो बात सही होती, क्योंकि चमक रहा है और चमकेगा में बहुत अंतर है.
राहुल गांधी ने कहा कि 2004 में सरकार बनने के बाद हम बैठे नहीं रहे, आपके पास आए, आपसे बात की और आपसे पूछा. आपने हमें बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में रोज़गार के लिए मनरेगा की ज़रूरत है. आपने हमें बताया और हमने किया. यह सोच भी आपकी ही थी, कांग्रेस पार्टी या किसी और की नहीं.
उन्होंने जनता से सवाल किया कि क्या आप लोगों ने पिछले पांच सालों में कभी मायवती जी को किसी गांव में देखा है या फिर कभी मुलायम सिंह जी को किसी किसान का हाथ पकड़ते हुए देखा है? जिसके जवाब में हज़ारों लोगों ने ‘नहीं' कहा.
राहुल गांधी ने कहा कि मनरेगा लागू करने के बाद कांग्रेस पार्टी को किसानों ने बताया कि इंदिरा जी ने बैंकों को राष्ट्रीयकृत किया. अब हमें पैसों की ज़रूरत होती है, तो बैंक से क़र्ज़ नहीं मिलता, भगा दिया जाता है. हम आपके पास आए और आपने यह बातें बताईं, तो हमने किसानों का 60 हज़ार करोड़ रुपये का क़र्ज़ माफ़ कराया, लेकिन मायावती जी कहती हैं कि कांग्रेस पार्टी का नाटक है. दूसरे राज्यों में, जहां कांग्रेस पार्टी की सरकार है, जाकर देखें तो पता चलेगा कि इससे किसी को फ़ायदा हुआ या नहीं. मुख्यमंत्री मायावती जी कभी अपने घर से बाहर ही नहीं निकलतीं, अगर निकलतीं, देखतीं कि मनरेगा का काम कैसा चल रहा है, तो उन्हें पता चलता.
राहुल गांधी ने कहा कि जब बुंदेलखंड में सूखा पड़ा था, किसान रो रहे थे, तो वहां मुलायम सिंह जी नहीं गए, आपकी मुख्यमंत्री मायावती जी भी नहीं गईं, लेकिन हम गए, हमने उनसे बात की और आठ हज़ार करोड़ रुपये का पैकेज दिलाया, लेकिन वो पैसा चोरी हो गया. हमने किसानों के लिए ट्रैक्टर भेजे, वो मंत्रियों के बच्चो को मिले. हम उत्तर प्रदेश में विकास के लिए हज़ारों करोड़ रुपया भेजते हैं, लेकिन चोरी हो जाता है.
उन्होंने बताया कि मैं लोगों के बीच जाता हूं, उनसे बात करता हूं, तो वही लोग मुझे बताते हैं कि राहुल जी हमें मालूम है कि केंद्र से विकास के नाम पर हज़ारों करोड़ रुपया आता है, लेकिन यहां पर सब कुछ बंधा हुआ है, हम समझ सकते हैं. लेकिन आप हमारे बीच आते हो, हमसे मिलते हो, ऐसा कोई और नेता नहीं करता.
राहुल गांधी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ी समस्या यही है कि यहां नेता आप लोगों के बीच नहीं आते, आपसे बात नहीं करते, आपकी इज़्ज़त नहीं करते. मुझे आप लोगों को आपकी वहीं इज़्ज़त वापस दिलानी है. आप जो कह रहें हैं, मैं सुन सकता हूं, आपकी दिक्क़त को समझ सकता हूं और आपकी बात को दिल्ली तक पहंचा सकता हूं.
उन्होंने कहा कि आप लोग अपने परिवार को छोड़कर महाराष्ट्र, दिल्ली, हरियाणा जैसे राज्यों में रोज़गार की तलाश में जाते हैं. महाराष्ट्र में उत्तर प्रदेश के लोगों को शिवसेना के लोग पीटते हैं. उन्होंने बताया कि कुछ दिनों पहले अपने मुंबई दौरे के दौरान रात के वक़्त सड़क पर उत्तर प्रदेश के एक व्यक्ति ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझसे सवाल किया हमें उत्तर प्रदेश में रोज़गार कब मिलेगा?
राहुल गांधी ने कहा कि मैं यहां 50 वादे करने नहीं आया हूं, मैं सिर्फ़ एक बात कहने आया हूं, मैं उत्तर प्रदेश को बदलने के लिए आया हूं. मैं आपकी तरक्क़ी के लिए अपना पसीना दे सकता हूं. मैं आपके साथ खड़ा हो सकता हूं. मैं यह कह सकता हूं कि आप लोगों ने मुझे जो इज़्ज़त दी, प्यार दिया, उसे मैं कभी भी भूल नहीं सकता.
उन्होंने बताया कि अभी भानपुर आते समय मुझे रास्ते में एक जीप में झंडे लगाए हुए बीजेपी के कुछ कार्यकर्ता दिखे. उस जीप में पीछे की सीट पर एक व्यक्ति बैठा था. मुझे देखकर उस व्यक्ति ने प्यार से मुझे नमस्ते की और मुझसे नज़र मिलाई. मैं जहां भी जाता हूं, मुझे ऐसे ही प्यार और सम्मान मिलता है.
कांग्रेस महासचिव ने कहा कि अब बदलने का वक़्त आ गया है.  अब आप लोग खड़े हो जाओ और लड़ जाओ, उत्तर प्रदेश के विकास के लिए. आप लोग हिंदुस्तान को दिशा दिखा सकते हो, एक दूसरे की इज़्ज़त करो. आपस में प्यार रखें, जात-पात को भूल जाएं.
राहुल गांधी ने कहा कि हम किसी से समझौता नहीं करेंगे, आप लोग कांग्रेस को चाहे एक सीट दो, चाहो 100 सीट दो, मैं हमेशा आप लोगों के साथ रहूंगा, यहां खड़ा रहूंगा. मुझे उत्तर प्रदेश को बदलने में चाहे पांच साल लगें, चाहे 20 साल, मैं बदल कर रहूंगा. दुनिया में केवल पांच ही ऐसे देश हैं, जो उत्तर प्रदेश से बड़े हैं. इसे बदलना है, हम मिलकर इसे बदलेंगे.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है... - एक सवाल अकसर पूछा जाता है, दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है...? अमूमन लोग इसका जवाब भी जानते हैं... कई बार हम जानते हैं, और समझते भी हैं, ...
  • दस बीबियों की कहानी - *बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम* कहते हैं, ये एक मौजज़ा है कि कोई कैसी ही तकलीफ़ में हो, तो नीयत करे कि मेरी मुश्किल ख़त्म होने पर दस बीबियों की कहानी सुनूंगी, त...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं