स्टार न्यूज़ एजेंसी  
मैनपुरी (उत्तर प्रदेश).
कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने सपा सुप्रीमों मुलायम सिंह यादव के गढ़ में घुसकर उनके खोखले वादों की धज्जियां उड़ा कर रख दीं .  अपना संबोधन समाप्त करके वे फिर वापस माईक की तरफ़ लौटे और वहां पहुंचे हज़ारों युवाओं से मुख़ातिब होकर कहा कि बड़ी मज़ेदार मीटिंग थी. क्रिश्चियन मैदान में राहुल गांधी ने युवाओं से सवाल किया कि पिछले 22 सालों से बीजेपी, बीएसपी, समाजवादी पार्टी की सरकारें आईं, आपको मज़ा आया? उत्तर प्रदेश आगे बढ़ा? मैदान में अधिकांश युवा मौजूद थे, सभी ने नहीं कहा तो राहुल गांधी ने कहा कि आवाज़ नहीं आ रही.  इस पर पूरे मैदान ने ज़ोरदार ढंग से ‘नहीं’ की आवाज़ उन तक तक पहुंचा दी.

राहुल गांधी ने कहा कि उत्तर प्रदेश को सिर्फ़ एक व्यक्ति ही बदल सकता है वह है यहां का युवा, जितनी शक्ति यहां है, उतनी किसी प्रदेश में नहीं है. आपको रोज़गार  के लिए दूसरे प्रदेशों में जाना पड़ता है. हमारे युवा दूसरे प्रदेशों को अपने हाथों से आगे बढ़ाते हैं. महाराष्ट्र जब आगे बढ़ जाता है, तो शिवसेना के लोग मारते हैं. कहते हैं कहां से आए? यूपी के हो भागो यहां से. दिल्ली रात को सोती है, तो यूपी के युवा मेट्रो बनाते हैं. पूछने पर यहां से आए 90 प्रतिशत लोग बताते हैं कि यूपी में रोज़गार नहीं मिलता.

उन्होंने कहा कि 2004 में कांग्रेस पार्टी की सरकार बनी. कांग्रेस ने लोगों को रोज़गार दिलवाया, 120 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से 100 दिन का रोज़गार. आपने बताया कि गांव में रोज़गार नहीं मिलता. मुलायम सिंह जी की सरकार थी तब, उन्होंने मनरेगा नहीं चलाया. उनके मंत्रियों ने पैसा चोरी कर लिया. अब कह रहे हैं बेरोज़गारी भत्ता देंगे. आपको रोज़गार चाहिए या बेरोज़गारी? उन्होंने सवाल किया.

राहुल गांधी ने कहा कि मैं यहां आपसे वादे करने नहीं आया. 22 सालों से आपको रोज़गार के लिए दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, महाराष्ट्र जैसे दूसरे राज्यों में जाना पड़ता है. उन्होंने कहा कि मुलायम सिंह जी अब चुनाव से पहले कह रहे हैं कि बिजली मुफ्त दे दूंगा, पानी दे दूंगा, किसानों की ज़रूरत पूरी करेंगे, इलाज के लिए देश के बाहर भेज देंगे. तीन बार जब मुख्यमंत्री थे तब 2-3 घंटे बिजली आती थी. लोगों ने मुझे दिखाया कि बिजली नहीं आती है, मगर दस-बारह हज़ार का बिल आ जाता है. कहां से देंगे मुफ्त में बिजली? पिछले 22 साल से एक भी कारख़ाना नहीं लगा. तीन बार मुख्यमंत्री थे तब बिजली दी ही नहीं, अब चौथी बार बनाओ मुख्यमंत्री तो मुफ्त बिजली दे देंगे.

उन्होंने कहा कि चुनाव के पहले मुलायम सिंह जी कह रहे हैं कि बुंदेलखंड को इजरायल में बदल देंगे. जब वहां सूखा पड़ा, तो लोगों ने कहा कि लखनऊ की सरकार मदद नहीं करती. हम बुंदेलखंड गए, ग़रीबों को ले जाकर प्रधानमंत्री जी के कांफ्रेंस रूम में बैठाया, लोगों ने प्रधानमंत्री जी को समस्या बताई, दो मिनट में 8000 करोड़ का बुंदेलखंड पैकेज प्रधानमंत्री जी ने दिया.

राहुल गांधी ने कहा कि केंद्र ने जैसे ही 8000 करोड़ रुपये बुंदेलखंड के लिए भेजे. मायावती जी ने लखनऊ में जादू का पालतू हाथी बनवाया है, जो ग़रीबों के पैसे खाता है. उसकी सूंड़ घूमी उधर और वह खा गया बुंदेलखंड के ग़रीबों का पैसा.
उन्होंने बताया कि बुनकर हमारे पास आए, उन्होंने बताया कि मुलायम सिंह जी, मायावती जी हमारी मदद नहीं करते. हमने उन्हें भी उसी कांफ्रेंस रूम में बैठाकर प्रधानमंत्री जी से मिलवाया, प्रधानमंत्री जी ने कहा कि अगर उत्तर प्रदेश सरकार बुनकरों की मदद नहीं कर रही तो भारत सरकार करेगी और तुरंत बुनकर पैकेज दिया. इसी तरह किसान हमारे पास आए, उन्होंने बताया कि बैंकों के दरवाज़े बंद हैं. कांग्रेस पार्टी ने 60 हज़ार करोड़ रुपये का क़र्ज़ माफ़ किया. किसानों के लिए  बैंकों के दरवाज़े फिर से खोले.

वहीं मुलायम सिंह जी चुनाव के पहले कहने लगे कि बुनकरों की मदद करेंगे. ये कर देंगे, वो कर देंगे. उत्तर प्रदेश वादों से आगे नहीं बढ़ने वाला. 22 सालों से आगे नहीं बढ़ा न ही बढ़ेगा. यहां के नेताओं ने युवाओं के हाथ बांध रखे हैं. मैं इस प्रदेश में बदलाव लाना चाहता हूं. यूपी में कोई कमी नहीं, यहां अस्पताल, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोज़गार, प्रगति आ सकती है.
राहुल गांधी ने युवाओं से कहा कि आपने 22 साल बर्बाद कर दिए. 22 साल का समय बहुत होता है. अब तमाशा बंद करो भईया. तंग आ गए हैं. लखनऊ में कांग्रेस पार्टी की सरकार बनवाइये. हम मिलकर बदल देंगे उत्तर प्रदेश को. जैसे आप अभी कहते हैं कि फ़लां सरकार चोर है, तब आप कहेंगे कि भइया सरकार काम कर रही है.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है... - एक सवाल अकसर पूछा जाता है, दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है...? अमूमन लोग इसका जवाब भी जानते हैं... कई बार हम जानते हैं, और समझते भी हैं, ...
  • दस बीबियों की कहानी - *बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम* कहते हैं, ये एक मौजज़ा है कि कोई कैसी ही तकलीफ़ में हो, तो नीयत करे कि मेरी मुश्किल ख़त्म होने पर दस बीबियों की कहानी सुनूंगी, त...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं