फ़िरदौस ख़ान
यादगार चरित्र, सशक्त अभिनय और बेमिसाल संवाद अदायगी के लिए पहचाने जाने वाले एके हंगल फ़िल्मी दुनिया का एक ऐसा सितारा थे, जिसकी चमक से यह दुनिया बरसों तक रौशन रही. वह पहले भी कलाकारों के लिए प्रेरणा स्रोत थे और आगे भी रहेंगे. अवतार किशन हंगल यानी एके हंगल का जन्म एक फरवरी, 1917 में पाकिस्तान के स्यालकोट में कश्मीरी ब्राह्मण परिवार में हुआ. जब वह चार साल के थे, तब उनकी मां का साया उनके सिर से उठ गया. उनका बचपन पेशावर में बीता. उन्होंने दर्ज़ी का काम सीखा और आजीविका के लिए इसे अपनाया भी. उनके पिता उन्हें अफ़सर बनाना चाहते थे, लेकिन अंग्रेज़ों की नौकरी करना उन्हें मंज़ूर नहीं था. वह शानदार दर्ज़ी थे. बक़ौल एके हंगल, मेरे घर पर सब अंग्रेज़ों के ज़माने के अफ़सर थे. सब चाहते थे कि मैं भी अंग्रेज़ सरकार का अफ़सर हो जाऊं. मैं स्वतंत्रता सेनानी था तो अंग्रेज़ों का ग़ुलाम कैसे बनता और उनकी नौकरी कैसे करता. मैंने सिलाई सीखी और फिर इतने अच्छे कपड़े सिलने लगा कि उस ज़माने में मुझे चार सौ रुपये मिलते थे. अपने इस काम के लिए घर में बहुत डांट खाई. उनके पिता हरिकृष्ण हंगल की सेवानिवृत्ति के बाद उनका परिवार कराची आ गया. मार्क्सवादी विचारधारा के एके हंगल देश के स्वतंत्रता संग्राम से भी जुड़े रहे और 1936 से 1947 तक उन्होंने सक्रिय भूमिका निभाई. वह पीपुल्स थियेटर एसोसिएशन (इप्टा) से जु़डे थे. यहां उन्होंने बलराज साहनी और कैफ़ी आज़मी के साथ कम्युनिस्ट पार्टी के लिए काम किया. वह 18 साल की उम्र से नाटकों में काम करने लगे थे. उन्होंने 1936 से 1947 तक रंगमंच पर अभिनय के जलवे बिखेरे.

उन्हें 1947 में जेल हो गई. कराची की जेल में दो साल बिताने के बाद 1949 में वह मुंबई आ गए. यहां उन्होंने दर्ज़ी का काम शुरू कर दिया. इसके साथ ही वह रंगमंच से भी जु़डे रहे. उनका सशक्त अभिनय देखकर लोग अकसर उनसे कहा करते कि वह फ़िल्मों में काम क्यों नहीं करते. अपनी तारी़फ़ें सुनने के बाद वह भी फ़िल्मों में अभिनय करने के बारे में सोचने लगे. एक दिन जब वह भूला भाई इंस्टीट्यूट में अपने नाटक की रिहर्सल कर रहे थे, तब बासु भट्टाचार्य ने उन्हें अपनी फ़िल्म तीसरी क़सम में काम करने की पेशकश की, जिसे उन्होंने ख़ुशी-ख़ुशी मंज़ूर कर लिया. फ़िल्म में उनका किरदार तो छोटा था, लेकिन उन्हें राजकपूर और वहीदा रहमान जैसे कलाकारों के साथ काम करने का मौक़ा मिल रहा था. इसलिए उन्होंने हां कर दी. इस तरह उनका फ़िल्मी करियर शुरू हुआ. इसके बाद उन्होंने एक के बाद कई फ़िल्मों में महत्वपूर्ण किरदार निभाए और अपनी अभिनय प्रतिभा का लोहा मनवाया. जिस वक़्त क़रीब 50 साल की उम्र में उन्होंने फ़िल्मों में काम करना शुरू किया, अमूमन उस उम्र में लोग अपने काम से रिटायर होने लगते हैं. इसलिए उनके पास ज़्यादा विकल्प नहीं बचे थे. उन्होंने पिता, चाचा और इसी तरह अन्य बुज़ुर्गों के किरदार निभाए. उन्हें फ़िल्म शोले के रहीम चाचा के किरदार में ख़ूब पसंद किया गया. इस फ़िल्म का उनका संवाद इतना सन्नाटा क्यों है भाई बहुत मशहूर हुआ था, जो आज भी लोगों के ज़ेहन में है.

उन्होंने तक़रीबन 225 फ़िल्मों में अभिनय किया. इनमें फ़िल्म शार्गिद, धरती कहे पुकार के, सात हिंदुस्तानी, सारा आकाश, अनुभव, गुड्डी, मेरे अपने, नादान, बावर्ची, जवानी दीवानी, परिचय, अभिमान, अनामिका, चुपके-चुपके, दाग़, गरम हवा, हीरा पन्ना, जोशीला, नमक हराम, आपकी क़सम, बिदाई, दूसरी सीता, दो नंबर के अमीर, इश्क़ इश्क़ इश्क़, कोरा काग़ज़, तीन मूर्ति, उस पार, आंधी, अनोखा, दीवार, सला़खें, शोले, आज का यह घर, बालिका वधु, चित्त चोर, जीवन ज्योति, रईस, तपस्या, ज़िद, ज़िंदगी, आफ़त, आईना, आलाप, ईमान धर्म, कलाबाज़, मुक्ति, पहेली, बदलते रिश्ते, बेशर्म, देस परदेस, नौकरी, सत्यम शिवम सुंदरम, स्वर्ग नर्क, तुम्हारे लिए, अमरदीप, जुर्माना, ख़ानदान, लड़के बाप से बड़े, मंज़िल, मीरा, प्रेम बंधन, रत्नदीप, हम क़दम, हम पांच, जुदाई, काली घटा, नीयत, फिर वही रात, थोड़ी-सी बेवफ़ाई, बसेरा, कलयुग, कल हमारा है, क्रोधी, क़ुदरत, नरम गरम, बेमिसाल, दिल आख़िर दिल है, ख़ुद्दार, साथ-साथ, शौक़ीन, श्रीमान-श्रीमती, स्टार, स्वामी दादा, अवतार, नौकर बीवी का, आज का एमएलए राम अवतार, कमला, शराबी, अर्जुन, बेवफ़ाई, मेरी जंग, पिघलता आसमां, राम तेरी गंगा मैली, सागर, साहेब, सुर्ख़ियां, एक चादर मैली-सी, न्यू डेल्ही टाइम्स, डकैत, जान हथेली पे, जागो हुआ सवेरा, जलवा, मेरा यार मेरा दुश्मन, सत्यमेव जयते, आख़िरी अदालत, ख़ून भरी मांग, अभिमन्यु, इलाक़ा, पुलिस पब्लिक, दुश्मन देवता, फ़रिश्ते, अपराध, लाट साहब, मीरा का मोहन, जागृति, खलनायक, रूप की रानी चोरों का राजा, दिलवाले, क़िस्मत, लाइव टुडे, सौतेले भाई, तेरे मेरे सपने, मैं सोलह बरस की, ये आशिक़ी मेरी, ज़ोर, तक्षक, लगान, द अडॉप्टिड, शरारत, कहां हो तुम, दिल मांगे मोर, हरिओम, द प्राइम मिनिस्टर, पहेली, सब कुछ है और कुछ भी नहीं और हमसे है जहां में आदि शामिल हैं. इसके अलावा उन्होंने टेलीविजन धारावाहिकों में भी काम किया, जिनमें मधुबाला, ज़बान संभालके, होटल किंग्सटन, चंद्रकांता, डार्कनेस, मास्टरपीस थियेटर, जीवन रेखा और बॉम्बे ब्ल्यू शामिल हैं. 95 साल की उम्र में उन्होंने मनोरंजन चैनल कलर्स पर आने धारावाहिक मधुबाला के ज़रिये वापसी की. सात साल से वह पर्दे से ग़ायब थे.

आख़िरी दिनों तक वामपंथी विचारधारा से जु़डे रहने वाले एके हंगल हिंदुस्तान और पाकिस्तान के विभाजन के सख्त ख़िलाफ़ थे. वह मानते थे कि सरहद की लकीरें दिलों को नहीं बांट सकतीं. उन्होंने 1993 में मुंबई में होने वाले पाकिस्तानी डिप्लोमैटिक फंक्शन में शिरकत की, जो पाकिस्तान से आए एक प्रतिनिधिमंडल के सम्मान में आयोजित किया गया था. इसमें उनके शामिल होने की वजह से शिव सेना प्रमुख बाला साहेब ठाकरे ने उनकी फिल्मों के प्रदर्शन पर रोक लगा दी थी. शिवसेना ने उन्हें देशद्रोही तक कह डाला था. इसकी वजह से निर्माता-निर्देशक उन्हें अपनी फ़िल्मों में लेने से कतराने लगे. फ़िल्म रूप की रानी चोरों का राजा और अपराधी जैसी कई फ़िल्मों से उनके किरदार निकाल दिए गए. नतीजतन, दो साल उन्होंने बेरोज़गारी में गुज़ारे. लोगों ने उनकी फ़िल्मों पर लगी रोक का विरोध किया और फिर यह रोक हट भी गई. उन्हें फिर से फ़िल्मों में काम मिलने लगा, लेकिन आख़िरी वक़्त तक उन्हें यह बात सालती रही कि इस पाबंदी की वजह से उन्हें दो साल बेरोज़गार रहना पड़ा. वह कहते थे कि उन दिनों हुए उनके इस नुक़सान की भरपाई भला कौन कर सकता है.

उन्होंने आर्थिक तंगी में ज़िंदगी गुज़ारी. उनके पास आमदनी का कोई ज़रिया नहीं था. उनके इकलौते बेटे विजय हंगल भी 70 साल से ज़्यादा उम्र के हैं. वह बॉलीवुड में फोटोग्राफर और कैमरामैन रहे हैं. उन्हें भी पीठ की बीमारी की वजह से काम छोड़ना पड़ा. 1994 में उनकी पत्नी का निधन हो गया था. उनकी कोई औलाद भी नहीं है. ऐसे में एके हंगल और उनके बेटे विजय हंगल का कोई सहारा नहीं था. मगर स्वाभिमानी एके हंगल और उनके बेटे ने किसी से मदद नहीं मांगी. पिछले साल ही यह बात सामने आई कि आर्थिक तंगी की वजह से वे अपना इलाज तक नहीं करा पा रहे हैं. उनकी ख़ुद्दारी को देखते हुए फैशन डिजाइनर रियाज़ गंजी ने 8 फ़रवरी, 2011 को आयोजित फैशन शो में एके हंगल को व्हीलचेयर पर ही रैम्प पर उतारा. इस शो के लिए उन्हें 50 हज़ार रुपये दिए गए. यह उनकी ख़ुद्दारी ही थी कि उन्होंने अपनी उम्र के आख़िरी दिनों तक बीमारी की हालत में भी काम किया. उन्होंने बीते मई माह में टेलीविज़न धारावाहिक मधुबाला में काम किया. इस उम्र में काम करने के एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा था, मैं मानता हूं कि काम करने की उम्र की कोई सीमा नहीं होती.

सादगी प्रिय एके हंगल का कहना था कि मैं हर किसी से सीखना चाहता हूं. जब मैं डायलॉग बोलता हूं तो लाइनें रटकर नहीं, बल्कि उसे समझकर बोलता हूं, शायद इसलिए मेरा किरदार इतना मौलिक लगता है. जब कोई किरदार निभाता हूं तो उसकी पूरी खोज करता हूं कि कौन सा मज़हब है, कौन से गांव का है, कब की कहानी है, क्या संस्कार हैं वग़ैरह. शायद इसलिए मेरी अदाकारी में दिखावटीपन नहीं होता है.

उनके चाहने वालों की कभी कमी नहीं रही. उनके प्रशंसक हमेशा उन्हें पत्र लिखते रहे. वह कहते थे कि मेरे काम को लेकर आज भी मुझे चिट्ठियां आती हैं. इस उम्र में भी लोग मुझे पूछते हैं, जानकर बहुत अच्छा लगता है. एक कलाकार के लिए इससे बड़ी ख़ुशी की बात और क्या हो सकती है कि उसके प्रशंसक हमेशा उसके साथ हैं.

उन्हें शास्त्रीय संगीत बहुत पसंद था. कई साल उन्होंने संगीत को समर्पित कर दिए थे. लेकिन ज़िंदगी की आपाधापी में उनका रियाज़ छूट गया और वह अभिनय के होकर ही रह गए. उन्हें ठुमरी और ग़ज़ल बेहद पसंद थीं. जब भी व़क्त मिलता वह अपना यह शौक़ पूरा जरूर करते. उनका कहना था कि इससे उनके मन को रूहानी सुकून मिलता है.

बीते 13 अगस्त को बाथरूम में गिर जाने की वजह से उनके कूल्हे की हड्डी टूट गई थी और री़ढ की हड्डी में भी चोट आई थी. इलाज के लिए उन्हें मुंबई के आशा पारेख अस्पताल में दाखिल कराया गया था. इलाज के दौरान उनकी हालत बिगड़ने पर उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था. उनका एक फेफड़ा काम नहीं कर रहा था. इसकी वजह से उन्हें सांस लेने में भी परेशानी हो रही थी. 26 अगस्त, 2012 को मुंबई में उनका निधन हो गया.

हिंदी सिनेमा में यादगार भूमिकाओं के लिए उन्हें 2006 में पद्मभूषण से नवाज़ा गया. उन्हें सम्मान की नज़र से देखा जाता है. अभिनेता धर्मेंद्र के मुताबिक़, पूरी फ़िल्मी दुनिया हंगल साहब की बहुत इज्ज़त करती है. वह जिस सेट पर जाते थे, बड़े से बड़ा कलाकार भी उनके सम्मान में खड़ा हो जाता था. उन्होंने अपनी आत्मकथा लाइफ एंड टाइम्स ऑफ एके हंगल लिखी. इसमें उन्होंने अपनी ज़िंदगी के सफ़र को बख़ूबी पेश किया है. इसमें उनके खट्टे-मीठे अनुभव हैं. कहीं ज़िंदगी के ख़ुशनुमा लम्हों का ज़िक्र है, तो कई पन्ने उनके आंसुओं से भीगे हुए हैं. उनके प्रशंसकों के लिए यह एक बेहतरीन किताब है. बेशक, आज एके हंगल हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन अपनी यादगार भूमिकाओं के ज़रिये वह हमेशा याद किए जाएंगे और अभिनय के आसमान में तारा बनके चमकते रहेंगे.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • किसी का चले जाना - ज़िन्दगी में कितने लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें हम जानते हैं, लेकिन उनसे कोई राब्ता नहीं रहता... अचानक एक अरसे बाद पता चलता है कि अब वह शख़्स इस दुनिया में नही...
  • मेरी पहचान अली हो - हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फ़रमाते हैं- ऐ अली (अस) तुमसे मोमिन ही मुहब्बत करेगा और सिर्फ़ मुनाफ़ि़क़ ही तुमसे दुश्मनी करेगा तकबीर अली हो मेरी अज़ान अल...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं