शराब के फ़ायदे बनाम ख़तरे

Posted Star News Agency Friday, November 07, 2014



स्टार न्यूज़ एजेंसी
जो लोग शराब नहीं पीते हैं, उन्हें शराब की शुरुआत नहीं करनी चाहिए और जो लोग पीते हैं, उन्हें सीमित मात्रा में शराब का सेवन करना चाहिए और या बिल्कुल न लें जैसे विषय पर सवाल खड़े होते रहे हैं.
हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. के के अग्रवाल के मुताबिक़ लोगों में यह प्रवृत्ति है कि सर्दी में और नये साल के मौके पर कहीं ज्यादा शराब का सेवन करते हैं. जो लोग ताउम्र शराब नहीं पीते हैं, उनकी आसानी से सीमित मात्रा में भी शराब के सेवन करने वालों या कभी-कभार लने वालों से तुलना नहीं की जा सकती. उन्हें शराब लेने की सलाह तब भी नहीं दी जानी चाहिए जब वे इसे न्यायसंगत साबित कर रहे हों.

बीमारियां जिनमें बचाव के तौर पर सीमित मात्रा में शराब का सेवन करते हैं जैसे कि कोरोनरी हार्ट डिसीज, इस्कैमिक पैरालिसिस और मधुमेह बुढ़ापे में अधिक प्रचलित हैं और उन लोगों में जो कोरोनरी हार्ट डिसीज के आशंकित तथ्य की श्रेणी में आते हैं. ऐसे लोगों में सीमित मात्रा में शराब के सेवन का संबंध मृत्यु को कम करने से है जो बिल्कुल भी नहीं पीते या फिर कभी कभार ही पीते हैं. कम और मध्यम उम्र के लोगों में खासकर महिलाओं में सीमित मात्रा में शराब के सेवन से (ट्रॉमा और स्तन कैंसर से) मौत का खतरा बढ़ सकता है. जो महिलाएं शराब का सेवन करती हैं, उन्हें सप्लीमेंट फोलेट लेना चाहिए जो स्तन कैंसर की बीमारी के खतरे को कम करने में मददगार होता है. 45 से कम उम्र वाले पुरुषों में जो शराब का सेवन करते हैं, उनमें फायदे से ज्यादा नुकसान होता है. इन समूहों में सीमित मात्रा में शराब लेने से किसी भी तरह से मौत की संभावना रहती है, लेकिन रोजाना एक ड्रिंक से कम के सेवन सुरक्षित माना गया जिससे किसी भी तरह का खतरा नहीं रहता है. व्यक्तिगत तौर पर शराब के सेवन पर विवाद है कि इसे कितना लिया जाए और किस स्तर पर यह खतरनाक होती है.

आदमी औरत से ज्यादा शराब का सेवन कर सकता है. आदर्श रूप में एक दिन में शराब करीब 6 ग्राम लेनी चाहिए. चिकित्सीय तौर पर एक घंटे में 10 ग्राम लेना सुरक्षित होता है, एक दिन में 20 ग्राम और एक हफ्ते में 70 ग्राम लेना सुरक्षित होता है. महिलाओं में सुरक्षित मात्रा इसकी आधी होती है.

एक नज़र

ई-अख़बार

Blog

  • सब मेरे चाहने वाले हैं, मेरा कोई नहीं - हमने पत्रकार, संपादक, मीडिया प्राध्यापक और संस्कृति कर्मी, मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक प्रो. संजय द्विवेदी की किताब 'उर्दू पत्रकारिता का भवि...
  • रमज़ान और शबे-क़द्र - रमज़ान महीने में एक रात ऐसी भी आती है जो हज़ार महीने की रात से बेहतर है जिसे शबे क़द्र कहा जाता है. शबे क़द्र का अर्थ होता है " सर्वश्रेष्ट रात " ऊंचे स्...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Like On Facebook

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं