रायटर की खबर के अनुसार सऊदी अरब में फ़िलिस्तीनी मूल के 35 वर्षीय कलाकार और कवि अशरफ फ़य्याद को इस्लाम त्यागने के आरोप में मौत की सज़ा सुनाई गई है.

 2013 में फ़य्याद को अबहा शहर में धार्मिक पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था और 2014 में दुबारा से उन्हें गिरफ़्तार करके सज़ा सुनाई गई. ह्यूमन राइट्स वाच के एडम कुग्ल ने बताया है कि अदालत ने उन्हें चार साल की जेल की और 800 कोड़ों की सज़ा सुनाई थी. इसके बाद अपील में दूसरे जज ने उन्हें मौत की सज़ा सुना दी.

 फ़य्याद पर लगाए गए आरोप एक गवाह के बयान पर आधारित हैं. गवाह के मुताबिक़ फय्याद ने अल्लाह, पैगम्बर मुहम्मद और सऊदी अरब को कोसा.  गवाह ने यह भी कहा है कि इस शायर की कविताओं में नास्तिक विचार हैं. कवि ने उस पर लगाए गए आरोपों का खंडन किया है, और वह अपने आप को आस्थावान मुसलमान मानता है.

 पिछले साल चीन और ईरान के बाद सऊदी अरब में ही सबसे अधिक लोगों को मौत की सज़ा दी गई. यहां मौत की सज़ा सरे-आम सिर काटकर ही दी जाती है. मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि जनवरी 1985 से अब तक इस देश में 2,200 से अधिक लोगों को मौत की सज़ा दी जा चुकी है.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • ज़िन्दगी की हथेली पर मौत की लकीरें हैं... - मेरे महबूब ! तुमको पाना और खो देना ज़िन्दगी के दो मौसम हैं बिल्कुल प्यास और समन्दर की तरह या शायद ज़िन्दगी और मौत की तरह लेकिन अज़ल से अबद तक यही रिवायत...
  • सबके लिए दुआ... - मेरा ख़ुदा बड़ा रहीम और करीम है... बेशक हमसे दुआएं मांगनी नहीं आतीं... हमने देखा है कि जब दुआ होती है, तो मोमिनों के लिए ही दुआ की जाती है... हमसे कई लोगों न...
  • लोहड़ी, जो रस्म ही रह गई... - *फ़िरदौस ख़ान* तीज-त्यौहार हमारी तहज़ीब और रवायतों को क़ायम रखे हुए हैं. ये ख़ुशियों के ख़ज़ाने भी हैं. ये हमें ख़ुशी के मौक़े देते हैं. ख़ुश होने के बहाने देते हैं....

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं