वज़न कम करने के लिए महंगा इलाज करने और महंगे तरीक़े अपनाने की ज़रूरत नहीं है. बिना मेहनत किए भी वज़न कम किया जा सकता है. वज़न कम करने के कुछ आसान घरेलू तरीक़े पेश हैं, जिन्हें आज़मा कर वज़न कम किया जा सकता है.
गर्म पानी के साथ शहद
रोज़ाना सुबह ख़ाली पेट गर्म पानी के साथ शहद पीने से वज़न घटने लगता है. 
नींबू पानी
रोज़ाना सुबह ख़ाली पेट नींबू पानी पीने से भी वज़न तेज़ी से कम होने लगता है. सर्दियों में जिन्हें ठंड या साइनस की परेशानी है, वे पानी को गुनगुना करके उसमें नींबू डालकर ‌पी सकते हैं.
टमाटर-दही का शेक
एक कप टमाटर के रस में एक कप दही (फ़ैट फ्री), आधा चम्मच नींबू का रस, बारीक कटा अदरक, काली मिर्च व स्वादानुसार नमक मिलाकर ब्लेंड कर लें. रोज़ाना सुबह ख़ाली पेट एक गिलास इस शेक को पीने से वज़न कम हो जाता है.
ख़ूब पानी पिएं
दिन में आठ से नौ गिलास पानी पीने से भी वज़न कम करने में मदद मिलती है. कई शोधों में माना गया है कि दिन में आठ से नौ गिलास पानी से 200 से 250 कैलोरी बर्न होती है. 
ग्रीन टी
युनिवर्सिटी ऑफ़ मैरीलैंड मेडिकल सेंटर के शोधकर्ताओं ने अपने शोध में माना है कि ग्रीन टी में विशेष प्रकार के पोलीफेनॉल्स पाए जाते हैं, जिससे शरीर में फ़ैट्स को बर्न करने में मदद मिलती है.
करौंदे का रस
करौंदे का रस भी वज़न घटाने में बहुत फ़ायदेमंद है. इससे शरीर का मेटाबॉलिज़्म ठीक रहता है और फ़ैट्स कम करने में आसानी होती है.
धनिया और नींबू का रस
रोज़ाना सुबह ख़ाली पेट हरे धनिये और नींबू का रस पीने से वज़न तेज़ी से घटने लगता है. 
सामग्री : 60 ग्राम हरा धनिया (मसला हुआ), 1 नींबू, 4 गिलास पानी. एक बर्तन में नींबू को दो हिस्सों में काटकर निचोड़ें. उसमें मसला हुआ धनिया और पानी मिला लें. इसे अच्छी तरह से मिला लें. इसे ख़ाली पेट लगातार पांच दिन तक लें. इससे जूस को 5 दिन तक लगातार खाली पेट लेने से आप तक़रीबन 5 किलो वज़न कम कर सकते हैं.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • ज़िन्दगी की हथेली पर मौत की लकीरें हैं... - मेरे महबूब ! तुमको पाना और खो देना ज़िन्दगी के दो मौसम हैं बिल्कुल प्यास और समन्दर की तरह या शायद ज़िन्दगी और मौत की तरह लेकिन अज़ल से अबद तक यही रिवायत...
  • सबके लिए दुआ... - मेरा ख़ुदा बड़ा रहीम और करीम है... बेशक हमसे दुआएं मांगनी नहीं आतीं... हमने देखा है कि जब दुआ होती है, तो मोमिनों के लिए ही दुआ की जाती है... हमसे कई लोगों न...
  • लोहड़ी, जो रस्म ही रह गई... - *फ़िरदौस ख़ान* तीज-त्यौहार हमारी तहज़ीब और रवायतों को क़ायम रखे हुए हैं. ये ख़ुशियों के ख़ज़ाने भी हैं. ये हमें ख़ुशी के मौक़े देते हैं. ख़ुश होने के बहाने देते हैं....

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं