फ़िरदौस ख़ान
जी हां, बंजर ज़मीन पर अब लिलियम के फूल लहलहा रहे हैं. आज जब खेती की उपजाऊ ज़मीन लगातार बंजर होती जा रही है, ऐसे में लिलियम के फूलों की खेती ने किसानों को एक नई राह दिखाई है.  लिलियम ठंडी आबोहवा का बेहद ख़ूबसूरत फूल है. दुनिया भर में कंदीय फूलों में ट्यूलिप के बाद लिलियम ही ऐसा फूल है, जिसकी ख़ासी मांग है. सजावट में यह बहुत काम आता है, जिसकी वजह से बाज़ार में इसकी अच्छी क़ीमत मिल जाती है. दुनिया भर में इसकी खेती की जाती है. इसकी खेती के लिए बल्ब हॉलैंड से मंगाया जाता है. एक अनुमान के मुताबिक़ भारत हॉलैंड से तक़रीबन 15-20 लाख बल्बों का आयात करता है. यह अनुमान लगाया गया है कि दुनिया के कुल सालाना कारोबार में कंदीय फूलों का तक़रीबन 12000 करोड़ का व्यापार है. सिर्फ़ 70 दिन की बाग़वानी वाला लिलियम किसानों के लिए फ़ायदेमंद का साबित हो रहा है. एक एकड़ में 90 हज़ाजार से एक लाख फूल तैयार हो जाते हैं. किसानों को प्रति एकड़ 12 से 15 लाख रुपये तक की आमदनी हो सकती है. बाग़वानी विभाग लिलियम की खेती पर 50 फ़ीसद अनुदान दे रहा है, जबकि नेट पॉली हाउस लगाने पर 65 फ़ीसद अनुदान दिया जा रहा है. यूं ओ जम्मू-कशमीर, हिमाचल और उत्तराखंड की जलवायु इसकी खेती के लिए उत्तम है, लेकिन अब देश के अन्य हिस्सों जैसे पंजाब और हरियाणा में भी किसान लिलियम की खेती कर रहे हैं.

उत्तराखंड के अल्मोड़ा ज़िले के गांव हड़ौली के किसान प्रभाकर भाकुनी पिछले कई सालों से लिलियम के फूलों की खेती कर रहे हैं. उनका कहना है कि बाज़ार में लिलियम के एक फूल की क़ीमत 40 से 50 रुपये है. अगर किसान ख़ुद फूलों के कारोबारियों से संपर्क कर अपनी पैदावार बेचे, तो उसे बहुत अच्छी आमदनी हासिल हो सकती है. उनका यह भी कहना है कि लिलियम की खेती बेरोज़गारों के लिए आमदनी का एक बेहतर ज़रिया है.

हरियाणा के फ़तेहाबाद के किसान सुमित गडवाल और भिवानी ज़िले के गांव ढाणी किरावड़ के किसान राजेश श्योराण भी लिलियम के फूलों की खेती कर रहे हैं. उन्होंने सात एकड़ में लिलियम उगाया था. राजेश श्योराण के मुताबि़क पारंपरिक खेती से उन्हें ज़्यादा आमदनी नहीं हो पा रही थी. फिर उन्होंने लिलियम की खेती के बारे में सुना और फिर नेट से जानकारी इकट्ठी की. इसके बाद उन्होंने हिमाचल में जाकर लिलियम की खेती कर रहे किसानों से प्रशिक्षण लिया. उन्होंने तीन एकड़ ज़मीन में लिलियम की खेती शुरू की. इसके लिए उन्होंने लिलियम के बल्ब मंगाए. बल्ब एक तरह की गांथ होती है, जिससे तीन बार लिलियम की खेती की जा सकती है. एक बल्ब की क़ीमत 15 से 20 रुपये होती है और एक एकड़ में तक़रीबन 80 बल्ब लगाए जाते हैं.
ग़ौरतलब है कि आज के दौर में दुनियाभर में जहां फूलों की मांग दिनोदिन बढ़ रही है, ऐसे में किसान फूलों की खेती करके अच्छी आमदनी हासिल कर सकते हैं.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Blog

  • 3 दिसम्बर 2018 - वो तारीख़ 3 दिसम्बर 2018 थी... ये एक बेहद ख़ूबसूरत दिन था. जाड़ो के मौसम के बावजूद धूप में गरमाहट थी... फ़िज़ा गुलाबों के फूलों से महक रही थी... ये वही दिन था ज...
  • अल्लाह की रहमत से ना उम्मीद मत होना - ऐसा नहीं है कि ज़िन्दगी के आंगन में सिर्फ़ ख़ुशियों के ही फूल खिलते हैं, दुख-दर्द के कांटे भी चुभते हैं... कई बार उदासियों का अंधेरा घेर लेता है... ऐसे में क...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

Like On Facebook

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं