नई दिल्ली. प्रसिद्ध मनीषी काकासाहेब कालेलकर और प्रख्यात साहित्यकार विष्णु प्रभाकर की स्मृति को समर्पित सन्निधि संगोष्ठी द्वारा 23 जनवरी को शाम 4.30 बजे गांधी हिन्दुस्तानी साहित्य सभा के सन्निधि सभागार में काकासाहेब कालेलकर सम्मान समारोह का आयोजन किया जा रहा है. इस समारोह का आयोजन गांधी हिंदुस्तानी साहित्य सभा, विष्णु प्रभाकर प्रतिष्ठान और वर्मा न्यूज एजेंसी हिसार (हरियाणा) के संयुक्त रूप से किया जा रहा है.

काकासाहेब के जन्मदिवस के उपलक्ष्य पर आयोजित इस समारोह में काकासाहेब कालेलकर समाजसेवा सम्मान बिहार के मोतीहारी में पिछले दो दशक से सक्रिय दिग्विजय और दिल्ली में घरेलू महिलाओं को इंसाफ दिलाने के संघर्ष में पिछले एक दशक से जुटी सुनीता रानी मिंज को दिया जाएगा. इनके अलावा पत्रकारिता के लिए दिल्ली की इंडिया वाटर पोर्टल की संचालिका मीनाक्षी अरोड़ा, साहित्य के लिए लालबहादुर मीरापोर और शिक्षा के लिए डा मृदुला वर्मा को काकासाहेब कालेलकर सम्मान से सम्मानित किया जाएगा.

सन्निधि संगोष्ठी की ओर से जनवरी में काका साहेब कालेलकर की याद में यह सम्मान हर साल विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने के लिए पांच युवाओं को दिया जाता है. इसी तरह जून महीने में विष्णु प्रभाकर के जन्मदिवस के उपलक्ष में भी पांच युवाओं को विष्णु प्रभाकर सम्मान दिया जाता है. समारोह में मुख्य अतिथि नर्मदा बचाओ आंदोलन की प्रसिद्ध नेत्री मेधा पाटेकर होंगी और विशिष्ट अतिथि गांधी स्मृति एवं दर्शन समिति के निदेशक दिपांकर होंगे. इसकी अध्यक्षता जनसत्ता के संपादक मुकेश भारद्वाज करेंगे. इसकी अध्यक्षता जनसत्ता के संपादक मुकेश भारद्वाज करेंगे. इसके अलावा विशिष्ट अतिथि के रूप में मुंबई की युवा साहित्यकार रीता दास राम और भोपाल की पत्रकार ममता यादव समारोह में मौजूद रहेंगी.
समारोह का संचालन वरिष्ठ पत्रकार प्रसून लतांत और किरण आर्य करेंगे.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • ज़िन्दगी की हथेली पर मौत की लकीरें हैं... - मेरे महबूब ! तुमको पाना और खो देना ज़िन्दगी के दो मौसम हैं बिल्कुल प्यास और समन्दर की तरह या शायद ज़िन्दगी और मौत की तरह लेकिन अज़ल से अबद तक यही रिवायत...
  • सबके लिए दुआ... - मेरा ख़ुदा बड़ा रहीम और करीम है... बेशक हमसे दुआएं मांगनी नहीं आतीं... हमने देखा है कि जब दुआ होती है, तो मोमिनों के लिए ही दुआ की जाती है... हमसे कई लोगों न...
  • लोहड़ी, जो रस्म ही रह गई... - *फ़िरदौस ख़ान* तीज-त्यौहार हमारी तहज़ीब और रवायतों को क़ायम रखे हुए हैं. ये ख़ुशियों के ख़ज़ाने भी हैं. ये हमें ख़ुशी के मौक़े देते हैं. ख़ुश होने के बहाने देते हैं....

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं