स्टार न्यूज़ एजेंसी
नई दिल्ली. हिंदी अकादमी दिल्ली ने इस साल (2009-2010) और पिछले साल (2008-2009) के पुरस्कारों की घोषणा कर दी है. काका हाथरसी सम्मान से स्टार कार्टूनिस्ट इरफ़ान खान को दिया जाएगा. यह पुरस्कार 23 मार्च को श्रीराम सेंटर में पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान दिए जाएंगे. समारोह में अकादमी की अध्यक्ष व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित तथा प्रख्यात लेखिका महाश्वेता देवी मौजूद रहेंगी.

अकादमी के सचिव प्रो. रवींद्रनाथ श्रीवास्तव परिचयदास ने बताया कि इस साल प्रो. केदारनाथ सिंह को शलाका पुरस्कार (दो लाख) की घोषणा की जा चुकी है. नए नियमों के मुताबिक़ अन्य सात पुरस्कारों की घोषणा की जा रही है, जिनमें हिन्दी अकादमी विशिष्ट योगदान सम्मान (प्रो. नजीब रिज़वी), हिन्दी अकादमी काव्य सम्मान (डा. कन्हैया लाल नंदन), हिन्दी अकादमी गद्य विधा सम्मान (प्रो. सुधीश पचौरी), हिन्दी अकादमी नाटक सम्मान (डा. असगर वज़ाहत), हिन्दी अकादमी हास्य व्यंग्य सम्मान (डा.ज्ञान चतुर्वेदी), हिन्दी अकादमी बाल साहित्य सम्मान (रेखा जैन) और हिन्दी अकादमी ज्ञान प्रौद्योगिकी सम्मान (बालेंदु दाधीच) शामिल हैं. इन सभी पुरस्कारों की राशि नए प्रारूप के मुताबिक़ 50 हज़ार रुपए रखी गई है.

उन्होंने बताया कि शलाका पुरस्कार नहीं दिया जा रहा है. अन्य पुरस्कारों के तहत साहित्यकार सम्मान 11 लोगों को दिया जा रहा है, जिनमें प्रो. पुरुषोत्तम अग्रवाल, प्रो. कृष्ण कुमार, गगन गिल, पंकज सिंह, द्रोणवीर कोहली, प्रो अब्दुल बिस्मिल्लाह, लीलाधर मंडलोई, बनवारी, प्रो इन्द्रनाथ चौधरी, डा.रामेश्वर प्रेम, सुरेश सलिल शामिल हैं.

वर्ष 2007-2008 के साहित्यिक कृति पुरस्कारों में विशिष्ट कृति का पुरस्कार कृपाशंकर सिंह की किताब ‘ऋगवेद, हडप्पा सभ्यता और सांस्कृतिक निरंतरता’ को दिया जा रहा है. कहानी संग्रह के लिए प्रियदर्शन के संग्रह ‘उसके हिस्से का जादू’, कविता संग्रह के लिए सूरजपाल सिंह चौहान की कविता संग्रह ‘कब होगी वह भोर’, मधु वर्मा के संग्रह ‘ये लहरें घेर लेती हैं’, मुकेश शर्मा के संग्रह ‘पसीने की बूंद’, उपन्यास के लिए अशोक गुप्ता की रचना ‘उत्सव अभी शेष है’ तथा नाटक के लिए दया प्रकाश सिन्हा के नाटक ‘रक्त अभिषेक’ को पुरस्कृत किया जा रहा है.

अन्य विधाओं में पुरस्कृत किताबों में विमल कुमार की ‘सत्ता समाज और बाजार’, आदित्य अवस्थी की ‘दिल्ली क्रांति के 150 वर्ष’, प्रो पवन माथुर की ‘शब्द बीज’ और प्रो पीके आर्य की ‘इलेक्ट्रॉनिक मीडिया’। इस वर्ष की बाल एवं किशोर साहित्यिक सम्मान से पुरस्कृत की जा रहीं किताबें हैं - चित्र का रहस्य (कुसुम लता सिंह), खुशी के पल (सरस्वती बाली), कहावतों की कहानियां (राधाकांत भारती), फूलों के बाबूजी (मधुलिका अग्रवाल), मोबाइल के जादूगर (अखिल चंद्र), बचपन की बुनियाद (पूरनचंद्र काण्डपाल) शामिल है.

एक नज़र

कैमरे की नज़र से...

Loading...

ई-अख़बार

Like On Facebook

Blog

  • दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है... - एक सवाल अकसर पूछा जाता है, दोस्तों और जान-पहचान वालों में क्या फ़र्क़ होता है...? अमूमन लोग इसका जवाब भी जानते हैं... कई बार हम जानते हैं, और समझते भी हैं, ...
  • दस बीबियों की कहानी - *बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम* कहते हैं, ये एक मौजज़ा है कि कोई कैसी ही तकलीफ़ में हो, तो नीयत करे कि मेरी मुश्किल ख़त्म होने पर दस बीबियों की कहानी सुनूंगी, त...
  • राहुल ! संघर्ष करो - *फ़िरदौस ख़ान* जीत और हार, धूप और छांव की तरह हुआ करती हैं. वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहता. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज गर्दिश में है, लेकिन इसके ...

एक झलक

Search

Subscribe via email

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसमें शामिल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं